साईं भक्त कपिल: बाबा आपके दिल और दिमाग पर राज करते हैं

साईं भक्त कपिल कहते हैं: नमस्ते, मैं इस मंच पर नया हूं और एक दो ब्लॉग पढ़ने के बाद, मुझे वास्तव में यह पसंद आया और मैं अपने अनुभव अन्य भक्तों के साथ भी साझा करना चाहूंगा।

मेरा एक छोटा अनुभव जो मुझे जनवरी 2009 में हुआ था। मैं अपनी माँ और पिताजी के साथ शिरडी गया था। दिल्ली से निकलने के एक हफ्ते पहले, मेरी माँ का पैर फ्रैक्चर हो गया था, लेकिन बाबा की कृपा से वह चलने में सक्षम थी, हालाँकि वह लंगड़ा कर चल रही थी। हमें समाधि मंदिर में श्री साईं बाबा के बहुत बढ़िया दर्शन हुए ।

यह मेरी माँ की शिरडी की पहली यात्रा थी और वह बहुत खुश हुईं।

अब, हमें दिल्ली में कुछ रिश्तेदारों और दोस्तों के लिए कुछ उदी पैकेट इकट्ठा करने थे। इसलिए, मैं और मेरे पिता मंदिर परिसर में जहाँ जहाँ उदी वितरित होती है वहां 4-5 पैकेट की कोशिश कर रहे थे ।

जब हम मंदिर में थे, हमने देखा कि कतार बहुत लंबी थी और अगर हम कतार में खड़े होते तो लगभग 1 घंटे से अधिक समय लगता। हमारे पास इतना समय नहीं था, क्योंकि हमारा कार्यक्रम थोड़ा तंग था। इसलिए, हम उदी नहीं मिली ।

मुझे बहुत दुख हुआ और मैंने बाबा से प्रार्थना की कृपया मेरी मदद करें|

और वहाँ चमत्कार हुआ …

जब हम अपने होटल का रूम खाली कर रहे थे, होटल के मालिक ने मुझे खुद उदी के 16 पैकेट दिए। हमने उनसे कोई उदी नहीं मांगी। हम यह भी नहीं जानते थे कि वह उनके पास उदी है।

मुझे बहुत खुशी हुई और मैंने वहाँ “बाबा” को दंडवत प्रणाम किया।

आप सभी के साथ अन्य अनुभव जल्द ही साझा करूँगा जहाँ मैंने बाबा की उपस्थिति का अनुभव किया।

“श्री साई को नमन – सभी को शांति”

© Sai Teri LeelaMember of SaiYugNetwork.com

Share your love
Default image
Hetal Patil Rawat
Articles: 113

Leave a Reply