“रेहम नज़र करो” की रचना दासगणु ने कैसे की?

"रेहम नज़र करो" की रचना दासगणु ने कैसे की?

How Dasganu Composed Reham Nazar Karo

Sai Baba asked Dasganu to quit his job many times but he kept on procrastinating. Finally, a day comes when he gets trapped and he had no other go other than going to Baba and asking His forgiveness and requesting Him to have mercy on him. This led Dasganu to the composition of Reham Nazar Karo ghazal spontaneously.

श्री साईं गुरु चरित्र शिरडी के साईं बाबा के जीवन पर एक जीवनी है, जिसे संत कवि दास गणु महाराज ने लिखा है। संत कवि दास गणु ने विभिन्न संतों पर तीन पुस्तकें लिखीं, जिसमें उन्होंने साईं बाबा को चार अध्याय समर्पित किए। इन पुस्तकों को 'भक्त लीलामृत', 'भक्ति सरमृत' और 'संत कथामृत' कहा जाता है। चार अध्यायों को "श्री साईं गुरुचरित्र" के शीर्षक के तहत एक पुस्तक में जोड़ा गया है, और 1949 में अंग्रेजी में अनुवाद किया गया था।

दासगणु महाराज की कहानियाँ – साई सरोवर पुस्तक से अनूदित

  1. संत कवि दासगणु महाराज को नमन
  2. दासगणु ने एक संत के रूप में कैसे सेवा की
  3. दासगणु महाराज – एक समर्पित पुलिस अधिकारी
  4. दासगणु महाराज ने “शिरडी माझे पंढरपुर” की रचना कैसे की?

एक बार नानासाहेब चांदोरकर और दासगणु एक साथ साईं बाबा के दर्शन करने गए। बाबा ने कहा, “नाना! तुम साधुओं की जमाखोरी करो, उन्हें दासगणु को बुलाने का जिम्मा सौंपो, उसके सिवा तुम्हें अन्य सभी उत्तरदायित्वों का ध्यान रखना है।”ऐसा लग रहा था कि साईं बाबा यह कार्य सौंपकर दासगणू महाराज के भाग्य का फैसला कर रहे थे।

दासगणु महाराज अलग-अलग संतों को आमंत्रित करते हुए जगह-जगह जाने लगे। इस प्रकार उन्हें विभिन्न संतों और महात्माओं की संगति मिली। दासगणु महाराज ने अंततः नाटक और तमाशा करना बंद कर दिया। उन्होंने लावणी के स्थान पर भगवान की स्तुति में भजन रचना और गायन करना शुरू कर दिया। आने वाले समय ने दिखाया कि दासगणु ने भक्त लीलामृत और संत लीलामृत जैसे कई शास्त्र लिखे। इस प्रकार साईं बाबा की दिव्य कृपा उन पर उतरी।

एक बार अहमदनगर जिले में प्लेग फैल गया। इस बीमारी को जड़ से खत्म करने के लिए सरकार ने स्वच्छता अभियान शुरू किया है। लेकिन सरकारी अधिकारियों ने स्वच्छता के बहाने लोगों के घरों में लूटपाट शुरू कर दी| ऐसी चोरी की शिकायत मिलने पर दासगनू को मामले की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। उन्होंने अपने कर्तव्य को बेहतरीन तरीके से पूरा किया।

प्लेग से त्रस्त ग्रामीणों ने गांवों को खाली कर दिया और भाग गए। जब किसी ने अपने रिश्तेदारों की लाशों को नहीं देखा और वे बीच सड़क पर भटकते रहे, तो लाशों को दासगणु अपने कंधों पर उठाकर श्मशान घाट ले गए और अपने हाथों से अंतिम संस्कार किया। इस प्रकार संतों की सेवा और साईं बाबा के आशीर्वाद से, उन्हें भगवान और लोगों की सेवा करने में बहुत आनंद आने लगा।

साईं बाबा ने एक दिन दासगणु से कहा, “हे गनु, भगवान ने तुमको लिखने की बुद्धि दी है। जब तुम लिखने बैठो, तो लिखना बंद न करो। ईश्वर तुमको नए विचार देगा, ये शब्द तुम्हारे दृष्टांतों को प्रेरित करेंगे। तुम घबराओ मत, तुम रुको मत, बस लिखते रहो। तुम जो लिखते हो उसे कोई गलत नहीं ठहरा सकता। अपनी कलम को ज्ञानेश्वर और तुकाराम की तरह चलने दो, अब तुम नौकरी छोड़ दो! दासगणु महाराज ने उत्तर दिया, “हाँ बाबा, मैं जल्द ही अपनी नौकरी छोड़ने जा रहा हूँ!”

नौकरी में लापरवाही

एक बार दासगणु बिना छुट्टी का आवेदन किये तीर्थ यात्रा पर निकल पड़े। एक पुलिस अधिकारी के लिए इस तरह की लापरवाही की अनुमति नहीं है। यह उन्हें बाद में पता चला। इसलिए उन्होंने गोदावरी का जल अपने हाथों में लिया और वहीं पर यह प्रण लिया कि यदि इस समय मुझ पर कोई कार्रवाई नहीं हुई तो मैं अपनी पिछली प्रतिज्ञा के अनुसार अपनी नौकरी अवश्य छोड़ दूंगा। दासगणु जब काम पर लौटे तो पास के जंगल से चार चोरों को गिरफ्तार कर लिया गया। इसलिए उसने यह कहते हुए मौके का फायदा उठाया कि उसे चोरों के बारे में जानकारी मिल गई है और उसे उनका पीछा करने के लिए दौड़ना पड़ा। उस हड़बड़ी में उसके पास थाने से अपनी अनुपस्थिति की सूचना देने का समय नहीं था। साईं बाबा के आशीर्वाद से वह फिर से बच गया, लेकिन वह नौकरी छोड़ने का मन नहीं बना सका।

दासगणु ने जब लोनी गांव में इस नौकरी को छोड़ने का संकल्प लिया था, तब फिर जब वह अपने कर्तव्यों में लापरवाही के कारण फंस गया, तो उसने शपथ ली, लेकिन इसे कभी पूरा नहीं किया। अपने लालची स्वभाव के कारण उन्होंने मन्नत पूरी करने में देरी की और इसी तरह कई साल बीत गए।

दासगणु का स्थानांतरण

इस बीच, दासगणु पुलिस सब-इंस्पेक्टर के पद के लिए साक्षात्कार में शामिल हुए और उनका चयन भी हो गया। इस प्रकार उनकी पदोन्नति हुई और इसके साथ ही सरकारी नियमों के अनुसार स्थानांतरण आदेश आया। वह अपने स्थानान्तरण के स्थान तक पहुँचने के लिए घोड़े की सवारी कर रहे थे। शिरडी रास्ते में पड़ता था। उन्होंने सोचा, “अगर मैं रास्ते में साईं बाबा को मिलने जाता हूँ, तो वे मुझे फिर से नौकरी छोड़ने के लिए आग्रह करेंगे बेहतर यही होगा की मैं सीधे आगे बढू!”। साईं बाबा सर्वज्ञ हैं, भले ही मनुष्य पाताल में जाकर सोचे, साईं बाबा के लिए कुछ भी अज्ञात नहीं रहता है। जैसे ही दासगणु महाराज का घोड़ा लेंदीबाग के सामने पहुंचा, बाबा घोड़े की लगाम थामे खड़े हो गए। दासगणु तुरंत घोड़े से उतरे और बाबा के चरणों में प्रणाम किया। दासगणु की कलाइयों को पकड़कर साईं बाबा उन्हें द्वारकामाई ले गए। उन्होंने पूछा, “गण्या! लोनी गांव में भगवान राम के चरणों में सिर रखकर किसने व्रत किया था? गोदावरी का पानी किसने लिया और नौकरी छोड़ने की कसम खाई?” दासगणु ने कांपते स्वर में कहा, “बाबा! मैं जल्द ही इस्तीफा देने जा रहा हूं। कृपया मुझे इस पद का कार्यभार संभालने की अनुमति दें और फिर मैं तुरंत इस्तीफा दे दूंगा।” बाबा ने कहा, “बस कुछ देर और रुको, अब तुम मुझ पर विश्वास नहीं कर रहे हो। जब आप दांव में पड़ेंगे, तो आप समझ जाएंगे। आज तेरी मेरी बातों का कोई मोल नहीं, जब तेरे सिर पर विपत्ति आये तो तू मुझे याद करेगा।

दासगणु ने अपनी फौजदार का कार्यभार संभाला। कुछ ही दिनों में उनके अधीन काम करने वाले सदाशिव ने एक आदमी से जुर्माना वसूल किया। सदाशिव ने सरकारी खजाने में पैसा जमा करने के बजाय खुद उसे अपने पास रख लिया। उस कार्य में दासगणु को विभाग का मुख्य अधिकारी नियुक्त किया गया था और उन्हें अपने अधीनस्थ के कार्यों के लिए जिम्मेदार ठहराया गया था। उन्हें अपनी नौकरी से निलंबित कर दिया गया, उन्होंने अपने कर्मों के लिए पश्चाताप किया और साईं बाबा के शब्दों को याद किया। वे साईं बाबा के चरणों में लुढ़क गए और फूट-फूट कर रोने लगे। वे कहने लगे, “बाबा, तुम मनुष्य में सिंह के समान हो, तुम तीनों लोकों को उजाला करते हो। बाबा! तुम्हारी महिमा के आगे चन्द्रमा गंदा लगता है, सूर्य शीतल लगता है। इतना रोते-रोते वह भक्ति में भीग गए। उन्होंने बार-बार बाबा से उन पर दया करने का अनुरोध किया और निम्नलिखित ग़ज़ल की रचना की।

रहम नज़र करो, अब मोरे साई 
तुम बिन नहीं मुझे, माँ-बाप-, भा...ई... रहम नज़र करो 
मैं अँधा हूँ बंदा तुम्हारा, मैं अँधा हूँ बंदा तुम्हारा, 
मैं न जानू, अल्लहइला...ही... रहम नज़र करो,
खाली ज़माना मैंने गवाया, खाली ज़माना मैंने गवाया,
साथी आखिर का, किया ना को...ई... रहम नज़र करो,
अपने मस्जिद का, झाड़ू गणु है, अपने मस्जिद का, झाड़ू गणु है,
मालिक हमारे तुम्ही बाबा सा...ईं... रहम नज़र करो| 

ग़ज़ल का अर्थ इस प्रकार है

बाबा की मुझ पर कृपा दृष्टि है, हे साईं
मेरे साथ कोई नहीं है, तुम मेरे माता, पिता, भाई हो...
बाबा मैं तुम्हारा अंधा (अज्ञानी) बच्चा हूँ,
तेरे सिवा मैं किसी और ईश्वर को नहीं जानता...
मैंने यूं ही समय बर्बाद किया,
तुम हमेशा मेरे सहारा हो,
मैं तो बस इस मस्जिद की झाडू हूँ,
आप हम सब के मलिक हैं,
बाबा की मुझ पर कृपा है...
साईं रहम नज़र करना, बच्चो का पालन करना... साईं रहम 
जाना तुम्हने जगत पसारा, सब ही जूठ ज़माना... साईं रहम
मैं अँधा हूँ बंदा तुम्हारा, मुझसे प्रभु दिखलाना... साईं रहम
दासगणू कहे अब क्या बोलू, थक गई मेरी रसना... साईं रहम

ग़ज़ल का अर्थ इस प्रकार है

साईं बाबा की कृपा दृष्टि है, कृपया बच्चों का ध्यान रखें,
तुम सर्वज्ञ हो, सारा संसार माया (नकली) है।
मैं आपका अंधा (अज्ञानी) बच्चा हूँ, कृपया मुझे भगवान (आत्म-साक्षात्कार) दिखाएँ,
दासगणु कहते हैं कि तारीफ में ज्यादा कौन गाऊं, मेरी रचनाएं सीमित हैं

ये दोनों ग़ज़लें आज भी शिरडी में काकड़ आरती के दौरान गाई जाती हैं।

काकड़ आरती के साथ गाओ

स्रोत: गुजराती पुस्तक साई सरोवर से अनूदित

© साईं तेरी लीलाMember of SaiYugNetwork.com

Share your love
Default image
Hetal Patil
Articles: 18

Leave a Reply