दासगणु ने एक संत के रूप में कैसे सेवा की

दासगणु ने एक संत के रूप में कैसे सेवा की
श्री साईं गुरु चरित्र शिरडी के साईं बाबा के जीवन पर एक जीवनी है, जिसे संत कवि दास गणु महाराज ने लिखा है। संत कवि दास गणु ने विभिन्न संतों पर तीन पुस्तकें लिखीं, जिसमें उन्होंने साईं बाबा को चार अध्याय समर्पित किए। इन पुस्तकों को 'भक्त लीलामृत', 'भक्ति सरमृत' और 'संत कथामृत' कहा जाता है। चार अध्यायों को "श्री साईं गुरुचरित्र" के शीर्षक के तहत एक पुस्तक में जोड़ा गया है, और 1949 में अंग्रेजी में अनुवाद किया गया था।

पहले पोस्ट:

आपने पिछली पोस्ट में देखा था कि दासगणू किस तरह लोनी गांव में उतरे, जहां वे भेष बदलकर श्री राम मंदिर में संत के रूप में सेवा कर रहे थे। अब देखते हैं की आगे क्या हुआ।

धीरे-धीरे लोनी गांव और उसके आसपास यह बात फैल गई कि नदी के किनारे राम के मंदिर में एक संत प्रकट हुए हैं और अब राम एक बार फिर एक जीर्ण मंदिर में जाग गए हैं। वहां नियमित रूप से सुबह और शाम की आरती की जाती है। रात में भजन कीर्तन की आवाज दूर से ही सुनाई देती है। लोगों के साथ-साथ मंदिर में पैसा भी आना शुरू हो गया है। ऐसा लगता है जैसे राम का वनवास समाप्त होने वाला है। गांव से एक ब्राह्मण मंदिर में आने लगा। उसका नाम बालाभट्ट था। वह और दासगणू, दोनों एक साथ अच्छी तरह से घुल-मिल गए। तो दासगुनु ने उनको मंदिर की पूजा का काम सौप दिया, जो भी अनाज, पैसा मंदिर में आता, वह बलभट्ट को दे देते थे| जहां दासगणु भगवान के भजन गाने में डूबे रहते, वहीं दूसरी तरफ वे चौकस नजर रखते हुए अपने कर्तव्य का पालन कर रहे थे। साथ ही उन्होंने प्रसाद के रूप में मिलने वाले फल और मेवे देकर गांव के बच्चों के साथ अच्छे संबंध बनाए और बदले में उनसे गांव के आंतरिक रहस्यों को जाना।

उनके कार्यों के कारण, गांव के लोगों ने दासगणु के बारे में मिश्रित राय रखी। कुछ लोग सोचते थे कि वह ब्रिटिश सरकार का जासूस है, जबकि कुछ ने उसे गलत मंशा रखने वाले अपराधी के रूप में लिया| गांव के बुद्धिमानों ने उसे एक संत कहा। उन्होंने बहस की, “यह सच्चे संत हैं, अन्यथा वह विष्णु सहस्त्र नाम का जाप कैसे कर सकते हैं और भगवान के लिए दैनिक कर्तव्यों का पालन कर सकते हैं। वह मंदिर में बैठे सुंदर भजनों के साथ माधुर्य को चुनौती देते हैं और यहाँ हमारे दिल के तार झूम उठते हैं। ऐसा गुण केवल एक संत का ही हो सकता है और किसी का नहीं।”

गांव में एक तलाटी था। सभी उन्हें अंताजी कुलकर्णी कहते थे। वह बहुत सुन्दर व्यक्ति था परन्तु उसका हृदय पाप से भरा था। वह दासगणु पर नज़र रख रहा था। जब वह किसी निष्कर्ष पर न पहुँच सका तब उन्होंने दासगुनु की परीक्षा लेने का निश्चय किया। एक दोपहर जब दासगणु मंदिर में बैठे थे, अंताजी “जय जय सीताराम” गाते हुए वहाँ आए और उनके पास गए। उन्होंने कहा, ‘मेरे नाम से एक सरकारी पत्र आया है जिसमें कहा गया है कि मंदिर में एक संत के वेश में मौजूद व्यक्ति सरकारी कर्मचारी है और मुझे आपकी जरूरतें पूरी करने का जिम्मा सौंपा गया है| अगर आपको कुछ चाहिए तो माँगने में संकोच न करें। मैं इसे पूरा करने की पूरी कोशिश करूंगा।”

दासगणु का दिमाग तेज था। उन्हें मामला कुछ पेचीदा सा लगा और उन्होंने साफ-साफ जवाब दिया, “सरकार का मुझ जैसे संत से क्या लेना-देना है। मैं एक ईमानदार संत हूं, यह मेरे बारे में आपको कुछ पत्र क्यों भेजेगा? यह मेरे लिए नहीं हो सकता, किसी और के लिए होगा, जाओ और कही और देखो”। दासगणु से इतना कड़ा उत्तर पाकर तलाती मंत्रमुग्ध हो गया और चुप हो गया लेकिन उसने फिर भी दासगनु पर संदेह जो सन्देश उसके मन में था वो ख़तम नहीं हुआ।

एक दिन गंगाराम पटेल का लड़का सदाशिव गाँव के अन्य बच्चों के साथ मंदिर आया। दासगणु ने उसका हाथ पकड़ा और उसे ऐसे घुमाया जैसे वह उसकी हथेली को देख रहा हो। उसने उसे अपने बारे में कुछ स्पष्ट जानकारी दी और लड़का घर गया और अपने माता-पिता को वह बात बताई। गंगाराम पटेल में भी अपना भविष्य जानने की जिज्ञासा थी और वह भी दासगणु के पास गए। उसकी हथेली देखकर दासगणु ने उसके कृत्या के परिणामों को सामने लाया और यह कहकर निष्कर्ष निकाला कि उसने जो धन कमाया है वह अच्छे कर्मों से नहीं है और इसलिए यह उसे मुश्किल में डाल देगा। उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने जो कुछ भी कहा वह उनके द्वारा देखा गया जैसा कि उनके भाग्य में लिखा है और ग्रहों की स्थिति बताती है। बाकी वह खुद सब जानते है और उनके राम जानते है। ये शब्द सुनकर गंगाराम पटेल का खून जम गया। वे दासगणु के चरणों में गिर पड़े। उस दिन के बाद गंगाराम पटेल प्रतिदिन गाय का शुद्ध दूध, दही, चाय आदि ऐसे भेजने लगे मानो अपने कर्मों को शुद्ध करने का प्रयास कर रहे हों। भगवान के लिए राजभोग भेजा जाने लगा। पुजारी बलभट्ट के साथ भी सभी सुख-सुविधाओं का व्यवहार किया गया। इस घटना के बाद दासगणु की शोहरत कई गुना बढ़ गई। नदी में स्नान करने जा रहे हों या स्नान कर के लौट रहे हों, रास्ते में भी लोग उनके पैरो में गिर कर उन्हें प्रणाम करने लगे। इस प्रकार अंताजी कुलकर्णी (तलती) का दासगणु के बारे में संदेह दूर हो गया।

दासगणु ने मन ही मन ईश्वर से क्षमा मांगते हुए कहा, “प्रभु! मुझे इस धोखे के लिए क्षमा करें, मैं साधु के नाम पर इन गरीब और निर्दोष लोगों को धोखा दे रहा हूं, वे गरीब लोग मुझे संत समझकर मेरी पूजा करते हैं, मैं उनके इस कृत्य के लिए पीड़ित हूं, भगवान!” इस प्रकार, पश्चाताप में, दासगणु में भगवान के प्रति भक्ति और अधिक दृढ़ हो गई, और अधिक से अधिक आनंद उसकी पूजा से होने लगा। राम के स्मरण से उनका हृदय कांपने लगा। उसके भीतर अपार शांति फैलने लगी। दासगणु को कभी-कभी लगता था कि केवल भगवान का नाम लेने का नाटक करने से ही ऐसा सम्मान प्राप्त हो सकता है, फिर जब सच्चे दिल और सही इरादे से नाम लिया जाएगा तो परिणाम क्या होगा।

एक तरफ दिन-रात भगवान की पूजा चल रही थी, तो दूसरी तरफ दासगणु को हर पल इस बात का अंदेशा रहता था कि यमराज उनके दरवाजे के बाहर हर क्षण खड़े हैं। यदि काना भील को अपने ठिकाने के बारे में पता चल जाता है तो वह तुरंत उनका सिर शरीर से अलग कर लेगा। उनके वहाँ आने से पहले, मद्रास के दो अधिकारी मनप्पा और नागप्पा उस डाकू के बारे में विवरण निकालने की कोशिश कर रहे थे और नतीजा यह हुआ कि डाकू ने उनके दुकड़े कर दिए| जब भी यह विचार दासगणु को आता तो उनके हाथ-पांव जम जाते और उनका दिल जोर से धड़कने लगता|

कहानी में एक दिलचस्प मोड़ वाली पोस्ट में साझा किया जाएगा। आशा है कि आपको ये पोस्ट रुचिकर लगी होंगी। कृपया हमें अपने विचार नीचे टिप्पणी अनुभाग में बताएं|

Share your love
Default image
Hetal Patil
Articles: 8

Leave a Reply