Category Translated Articles from Sai Sarovar

दासगणु महाराज ने “शिरडी माझे पंढरपुर” की रचना कैसे की?

एक पुलिस अधिकारी के रूप में सेवा और छिपकर दासगणू अब जान बचाने के लिए अपनी यात्रा आगे बढ़ाते हैं। इस यात्रा में नानासाहेब चांदोरकर के संपर्क में आते हैं। यह उनके जीवन में एक महत्वपूर्ण मोड़ को दर्शाता है।
Read More

दासगणु महाराज – एक समर्पित पुलिस अधिकारी

दासगणु महाराज ने लोनी गांव के राम मंदिर में एक संत के रूप में सेवा की और एक खतरनाक धोखेबाज को गिरफ्तार करने के लिए वे सतर्क थे। वह साहसी अधिकारी थे, पर कठिन परिस्थितियों में वे उसे बचाने के लिए भगवान को पुकारते थे।
Read More

दासगणु ने एक संत के रूप में कैसे सेवा की

दासगणु संत का वेश धारण कर एक गांव में नदी के किनारे मंदिर में छिप गए। यद्यपि वह अपने कर्तव्य के एक भाग के रूप में वहां गया था, उसने भगवान और अंततः स्वयं के प्रति अपने वास्तविक कर्तव्य को महसूस किया।
Read More

संत कवि दासगणु महाराज को नमन

कैसे मनाएं इस दिन को - पौष पुत्रदा एकादशी श्री दासगणु महाराज की जयंती है जो साईं बाबा के प्रमुख भक्तों में से एक हैं और इस महान व्यक्तित्व से जुड़ी कहानियों का अनुवाद साई सरोवर पुस्तक से किया गया है।
Read More