साईं भक्त शालिनी: शिरडी साईं बाबा ने मुझे नौकरी दी

Hindi Blog of Sai Baba Answers | Shirdi Sai Baba Grace Blessings | Shirdi Sai Baba Miracles Leela | Sai Baba's Help | Real Experiences of Shirdi Sai Baba | Sai Baba Quotes | Sai Baba Pictures | http://hindiblog.saiyugnetwork.com/

साईं भक्त शालिनी कहती है: प्रिय हेतल जी, मैं शालिनी हूं। जैसे की मैं श्री साईं बाबा जी की भक्त हूं, मैं बाबा जी की लीला को सभी को सुनाती हूं। इस खूबसूरत अनुभव को लिखने के पीछे मेरा मकसद केवल साईं बाबा जी के मूल्य की सराहना करना नहीं है, बल्कि बाबा जी के भक्तौं को प्रेरित करना भी है। बाबा जी केवल हमसे भक्ति एवं प्यार चाहते हैं।

मैंने इस साल अपना MCA पूरा किया है और एक अच्छी नौकरी की तलाश कर रही हूं। जैसा कि मुझे पढ़ाने में दिलचस्पी है, इसलिए मैंने अपने शहर के एक प्रतिष्ठित कॉलेज में लेक्चरर बनना पसंद किया। लेकिन जैसा कि मुझे मेरा अंतिम प्रमाण पत्र नहीं मिला, मैं इस नौकरी के लिए योग्य नहीं थी। यह वास्तव में मुझे परेशान करता है क्योंकि एक-एक करके सभी अवसर मेरे हाथों से फिसल रहे थे। मैं वास्तव में बहुत परेशान और उदास थी। लेकिन मैंने नेट पर साईं सतचरित्र पढ़ना शुरू किया। इससे मेरा मन शांत और तनाव मुक्त रहता है।

आखिर में मुझे एक कॉलेज के बारे में पता चला जिसमें अगस्त में इंटरव्यू होना था। मुझे पूरा यकीन था कि मैं अपना DMC प्राप्त कर सकूंगी, इसलिए आशा की एक किरण जगी। इसके बाद, जब मैं लेक्चरर के पद के लिए अपना फॉर्म जमा करने के लिए कॉलेज गयी तो उन्होंने कहा कि वे सबसे पहले UGC,M.PHIL को प्राथमिकता देते हैं। इसने वास्तव में मुझे हिलाकर रख दिया क्योंकि व्याख्याता के लिए केवल सात सीटें थीं। लेकिन फिर भी मुझे साईंनाथ जी पर पूरा भरोसा है। इसलिए मैं थकी नहीं थी और पवित्र पुस्तक को पढ़ती रही।

अंत में मेरे साक्षात्कार की तारीख आ गई, क्योंकि मेरी बारी दूसरे नंबर पर थी इसलिए मुझे चार घंटे तक इंतजार करना पड़ा। बीच में, मैं बाबा जी का नाम ले रही थी ताकि वह मेरी मदद कर सके। मैं भी उनकी तरफ से एक संकेत चाहती थी कि वह मेरे साथ है। जैसा कि मैं सोच रही थी, अचानक मेरे बगल में एक लड़की, विभूति के मेरे तिलक पर ध्यान दिया और मुझसे पूछा कि क्या मैं साईं बाबा जी की भक्त हूं। मैंने मुस्कराते हुए उसे जवाब दिया। तब मुझे पता था कि वह केवल एक रास्ता है जिसके माध्यम से बाबा जी मुझे प्रेरित करना चाहते हैं। अंत में, मैंने बाबा जी के नाम के साथ साक्षात्कार हॉल में प्रवेश किया। साईंनाथ जी की कृपा से मेरा इंटरव्यू बहुत अच्छा गया और इस कॉलेज में मेरा चयन हो गया। मैं बाबा जी की बहुत आभारी हूं कि मैं शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकती। मैं आप से प्यार करती हूँ। कृपया ऐसे ही मेरे साथ रहें|

ओम साईं नाथ

© Sai Teri LeelaMember of SaiYugNetwork.com

Share your love
Default image
Hetal Patil Rawat
Articles: 113

Leave a Reply