इस दशहरा नौ सिक्कों की दक्षिणा के लिए साईं बाबा का मार्गदर्शन

महापारायण – एक महायज्ञ है जिसके द्वारा बाबा हमारे पापों, दोषों को जला रहे हैं और आशीर्वाद और प्रेम की गरमाहट महसूस करते रहते है| इस महायज्ञ में सबसे अच्छी पेशकशों में से एक यह हो सकता है कि आपके जाने-माने लोग अपनी लीलाओं को दूसरों के साथ साझा करके इस महायज्ञ का हिस्सा बनाये ताकि हमारे विश्वास को देखकर दूसरों का विश्वास बढ़े। यह बाबा को धन्यवाद करने का सबसे श्रेठ तरीका होगा और तो और बाबा के प्रति एक विशेष सेवा भी होगी| यह गुलाब जल छिड़कने जैसा है, इसे छिड़कने वाला भी हर बार सुगंध महसूस करता है। तो आइए हम बाबा को धन्यवाद दें और उनकी कुछ लीलाएँ साझा करें और जाने-अनजाने किसी की मदद करें। इस वैश्विक महापरायण का निर्देशन और क्रियान्वयन स्वयं बाबा कर रहे हैं, इसके बारे में निश्चिंत रहें! अच्छाई फैलाएं और ब्रह्मांड आपको इसे कई गुना लौटाएगा!

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि इस वर्ष का दशहरा दूसरे वर्षों की तुलना में अधिक महत्व रखता है क्योंकि यह 15 अक्टूबर 2021 को पड़ता है, और बाबा ने दशहरा 15 अक्टूबर, 1918 को महासमाधि ली थी। इस वर्ष तिथि (दिनांक) और तिथि का मेल हो रहा है जो इसे और अधिक विशेष बनाता है! हम नहीं जानते कि कब और कितने वर्षों के बाद हम ये मेल फ से देख पाएंगे। मेरे दिमाग में चल रहे इन विचारों के साथ मैं अपने जीवन में इस तरह की घटना को देखने के लिए अपने आप को बहुत भाग्यशाली महसूस कर रही थी। मैं सोच रही थी कि इसके महत्व को चिन्हित करने के लिए इसे एक विशेष तरीके से कैसे मनाया जाए और हम बाबा के लिए क्या कर सकते हैं?

वैश्विक महापरायण हमेशा मेरी आत्मा के बहुत करीब रहा है और मैं वास्तव में बहुत धन्य महसूस करती हूं कि बाबा ने यह कार्य शुरू करने के लिए मुझे चुना और “तथाकथित संस्थापक” के रूप में नामित किया। मेरा मानना है कि बाबा ही वास्तविक संस्थापक हैं और मैं पूरी वैश्विक महापरायण टीम के साथ उनके साधन मात्र हूँ। महापरायण के सदस्यों को पता होगा कि इस वैश्विक अभियान के सदस्य के रूप में बाबा द्वारा दिखाया गया आंकड़ा 60466176 है (और उससे भी आगे)। मैं यहां पहली बार आए भक्तों के लिए फिर से उद्धरण दे रही हूं। पिछले डेढ़ साल से, महापारायण के धन्य स्वयंसेवकों की पूरी टीम 559,872 भक्तों के साथ अपना पहला पड़ाव हासिल करने का प्रयास कर रही है, इस प्रकार बाबा के कमल चरणों में 559,872 भक्तों के साथ N1 [नंददीप उप विश्वविद्यालय (N1 से N108)] को पूरा कर अर्पित करने का प्रयास कर रहे हैं। बहुत प्रयास किए गए लेकिन बाबा सब कुछ उनके निर्धारित समय पर ही करते है। उनकी मर्जी के बिना एक पत्ता भी नहीं हिलता और सब कुछ उनकी मर्जी से होता है।

19 सितंबर, 2021 की बात है, जब मैं ध्यान करने की कोशिश कर रही थी। लगातार विचार आ रहे थे कि कितना अच्छा होगा यदि हम इस विशेष दशहरे पर बाबा के चरणों में N1 की पेशकश कर सकें और इच्छुक अध्यक्षों को उप-विश्वविद्यालयों N2, N3, N4 और N5 के आवंटन की घोषणा कर सकें! महापारायण के अध्यक्षको के लिए भी यह कितना अच्छा और शुभ होगा कि वह दशहरे पर बाबा से इस नई भूमिका या सेवा ककी शुरुआत करें, जिसे किसी भी नए उद्यम को शुरू करने के लिए सबसे शुभ समय माना जाता है? समय एक महीने से भी कम है और मैं बाबा से इस मुकाम को हासिल करने के लिए मार्गदर्शन मांग रही थी। तभी मुझे लगा जैसे बाबा याद दिला रहे हैं (वास्तव में याद दिलाने के भेष में मार्गदर्शन करते हुए) कि 2017 दशहरा के दौरान जब महापारायण विश्व स्तर पर स्थापित हो रहा था तब हमें 5000 भक्तों की आवश्यकता थी। फिर बाबा के 2 पैसे दक्षिणा के मार्गदर्शन से (प्रत्येक भक्त महापारायण में दो-दो भक्त जोड़ते हुए) हम केवल 17 दिनों में उस मुकाम को हासिल कर सके जो हम 2017 में पिछले दो महीनों में नहीं कर पाए थे। मुझे लगा कि घटनाएं खुद को दोहरा रहे है लेकिन केवल अंतर यह था कि हमारे पास लगभग 50000 भक्तों की कमी थी और शेष दिन लगभग समान थे। एक बड़े ‘0’ (शून्य) का एक छोटा सा अंतर भी था और यह बहुत बड़ा मूल्यवान है। उस समय 350 भक्तों की एक टीम के साथ, अत्यधिक परिश्रम, समर्पण और भक्ति के साथ बाबा ने हमें 7500 भक्तों का आशीर्वाद दिया, जबकि हमने वास्तव में केवल 5000 भक्तों के लिए प्रार्थना की थी। यह 23 अगस्त 2017 को पूर्ण समर्पण के बाद ही हुआ क्योंकि हमें लगभग 2 महीने की अवधि में केवल 350 पंजीकरण प्राप्त हुए थे। अब तक (2021 में) हमारे पास लगभग 5 लाख महापारायण (एमपी) भक्तों की एक विशाल टीम है, 50000 भक्त प्राप्त करने योग्य लगते हैं।

मैं ध्यान करने की बहुत कोशिश कर रही थी, तभी अचानक एक विचार आया, “15 अक्टूबर 1918 दशहरे को बाबा ने माँ लक्ष्मीबाई शिंदे को 9 सिक्के दिए थे जो एक अच्छे शिष्य या नव विधा भक्ति की नौ विशेषताओं का प्रतिनिधित्व करते थे, इसी तरह इस वर्ष 15 अक्टूबर 2021 दशहरा, यदि MP के प्रत्येक भक्त वैश्विक महापरायण के लिए 9 सिक्कों के रूप में 9 सदस्यों को बाबा को दक्षिणा के रूप में प्रदान करता है, तब हम पर बाबा की कृपा होगी और इस कलियुग में बाबा के महापारायण के पथ पर कई नई आत्माएं भी प्रबुद्ध होंगी। यह किसी महान सेवा से कम नहीं होगा और निश्चित रूप से बाबा को प्रसन्न करेगा। यह 15 अक्टूबर के इस विशेष दशहरे पर उनके चरणों में सबसे अच्छी भेंट होगी! “इसके साथ ही मैंने अपना ध्यान तोड़ दिया और अपनी आँखें खोलीं और अपने कार्य जल्दी करने की कोशिश की क्योंकि यह गणपति विसर्जन का दिन था और घर में सत्यनारायण पूजा भी थी। हालाँकि मैं जल्दी में थी और और मैं तय नहीं कर पा रही थी कि किस कारण खुशी या कृतज्ञता के आँसुओं से नेत्र भरा हुए थे, या बाबा की कृपा के कारण, मैं अपने अध्ययन कक्ष की दीवार पर बाबा की बड़ी तस्वीर के पास गई और उन्हें प्रणाम किया। मैंने कहा, “बाबा मुझे नहीं पता कि यह विचार आप से प्रेरित था या यह मेरी अपनी सोच थी, कृपया इसे पूरा करें। मुझे पता है कि यह बहुत कठिन होगा लेकिन आपकी कृपा से असंभव नहीं है। आप पिछले कुछ दिनों से मुझे लगातार गुरुचरित्र पढ़ने के लिए कह रहे हैं लेकिन मैं इसे पढ़ नहीं पाई। आज का दिन बहुत लम्बा है लेकिन फिर भी मैं गुरुचरित्र एक ही दिन में पढ़ने का प्रयास करना चाहूँगी। मैं नहीं जानती कि कैसे, लेकिन मैं अपना सर्वश्रेष्ठ दूँगी; अपनी पारिवारिक जिम्मेदारियों को पूरा करते हुए। यदि मैं इसे आज (जो असंभव प्रतीत होता है) पूरा करने में सक्षम हूं, तो मैं इसे वैश्विक महापरायण (559872 भक्तों) के पहले मपड़ाव को प्राप्त करने के लिए 9 सिक्कों के रूप में 9 भक्तों की दक्षिणा अर्पित करने के सफल निष्पादन के लिए आपका आश्वासन मांगूँगी।

दरअसल इससे पहले मैंने एक सपना देखा था जहां मैंने एक बहुत पुरानी किताब देखी (पन्ने पीले पड़ गए थे)। यह किताब दो फुट जितनी बड़ी थी और हजारों पन्नों का लगता था। सपने में मैंने अपनी माँ को साईं बाबा के रूप में देखा। साईं बाबा का चेहरा और मेरी का शरीर था और वे मुझसे कह रहे थे, “पूजा, यह गुरुचरित्र है! मैंने कुछ ऐसा उत्तर दिया, “मुझे पता है” और सपना समाप्त हो गया। जब मैं उठी तब मुझे लगा जैसे बाबा मुझे फिर से गुरुचरित्र पढ़ने के लिए कह रहे थे। मैंने इसे कुछ दिन पहले ही पढ़ा था, मैं इसे साल में कम से कम एक बार गुरु पूर्णिमा सप्ताह के दौरान पढ़ती थी। तो सपने के बाद मुझे बाबा से गुरुचरित्र पढ़ने के लिए अन्य संकेत मिले जैसे कि सतचरित्र के अध्यायों 18-19 के माध्यम से जो मुझे आवंटित हुआ, या फिर मेरे दो अलग-अलग पड़ोसियों ने अचानक उसी दिन मुझसे गुरुचरित्र के बारे में पूछा। मैंने इसे पढ़ना भी शुरू कर दिया था, लेकिन एक हफ्ते के समय में इसे पूरा नहीं कर सकी और इसलिए मैंने इसे छोड़ दिया और फिर से गणेश विसर्जन दिवस (19 सितंबर, 2021) को शुरू करने का फैसला किया।

वअब विसर्जन के दिन की बात पे चलते हैं, हमारे अध्ययन कक्ष में दीवार पर बाबा की बड़ी तस्वीर के सामने झुककर, मैंने जो कहा था, उसके बारे में चिंतित थी| मैं सोच रही थी कि यह बहुत व्यस्त दिन दिखाई दे रहा है और मैं सत्यनारायण पूजा, विसर्जन, बच्चों, पारिवारिक जिम्मेदारियों में व्यस्त थी और इन सबसे ऊपर मेरी सास ने मुझे और मेरे पति को पूजा के लिए बैठने के लिए कहा था। मैंने कहा, “बाबा मैं नहीं जानती कि कैसे, लेकिन आपके लिए कुछ भी संभव है! मैं अपना सर्वश्रेष्ठ दूँगी और आप मेरे आज के दिन को मेरे सर्वश्रेष्ठ संस्करण जैसे जीने में मेरी मदद करेंगे।” दिन की शुरुआत हुई, सत्यनारायण पूजा और विसर्जन अनुष्ठान आदि किए गए। बीच में जब भी मुझे समय मिलता मैं गुरुचरित्र के कुछ पन्ने पढ़ पाती। सौभाग्य से मेरे पति के लिए छुट्टी का दिन था क्योंकि उस दिन महाराष्ट्र बंद था और उन्होंने बच्चों की देखभाल क करके मेरी पूरी मदद की। शाम 4 बजे के बाद मुझे समय ममिला और गुरुचरित्र पढ़ने लगी। अन्य जिम्मेदारियों के बीच कुछ विरामों के साथ मैंने 20 सितंबर की सुबह 12:10 बजे तक संपूर्ण गुरुचरित्र का वाचन पूरा किया। मुझे बुरा लगा कि बहुत कोशिश करने के बाद भी मुझसे 10 मिनट का समय ज्यादा हो गया। मैं अभी भी बहुत खुश थी कि मैं इस साल बाबा की इच्छा के अनुसार इसे फिर से पढ़ने में सक्षम थी और पहली बार मैं इसे एक ही दिन में (लगभग 5 घंटे में) पढ़ने का प्रबंधन कर सकी और वह भी इतने व्यस्त दिन होते हुए भी, जो कि मैं पहले कभी नहीं कर सकी। लेकिन वह 10 मिनट की देरी मेरे मन में “9 सिक्कों की दक्षिणा” परियोजना के क्रियान्वयन और सफलता पर संदेह पैदा कर रही थी।

अगले दिन 20 सितंबर, मैं अभी भी “9 सिक्कों की दक्षिणा” के बारे में सोच रही थी, लेकिन वास्तव में उन 10 मिनट की देरी के कारण उस पर काम करना शुरू नहीं किया था। शाम कके 7 बज रहे थे और मैंने दैनिक सत्चरित्र पठन (365 दिन साईं) के लिए अपना आवंटित अध्याय 42 पढ़ने के लिए सच्चरित्र लिया। मैंने सोचा, “कितना अच्छा होता, अगर आज मेरे दैनिक पठन का अध्याय 43-44 होता जहाँ बाबा ने 15 अक्टूबर को लक्ष्मीबाई को 9 सिक्के दिए थे! यदि ऐसा हुआ, तो मैं इसे 9 सिक्कों की दक्षिणा की इस परियोजना के लिए बाबा की ओर से एक और संकेत मान सकती थी। लेकिन अफसोस आज मेरे पास अध्याय 42 है, न कि 43-44। “मुझे पता था कि अध्याय 42 बाबा की महासमाधि के बारे में था, लेकिन कहीं न कहीं मैंने यह मान लिया था कि अध्याय 43-44 में ही 9 सिक्कों की लक्ष्मीबाई शिंदे की कहानी है। जब मैंने अध्याय 42 पढ़ना शुरू किया, तो मेरे शरीर में शुरुआत में ही अध्याय को पढ़ने के लिए एक अलग तरह का रोमांच पैदा हो गया। हाँ, अध्याय में शब्द थे ‘लक्ष्मीबाई शिंदे को दान!’ फिर आगे पुष्टि करने के लिए, मेरे शंकालु मन ने कहा, “बाबा अगर मैं इस अध्याय को 9 मिनट में मैं पूरा करती हूँ तो मुझे विश्वास हो जाएगा कि इस सब के पीछे सब आप ही हैं और ये मेरे यादृच्छिक विचार नहीं हैं”। इसलिए मैंने अध्याय 42 को शाम 7:15 बजे पढ़ना शुरू किया और जब मैंने पूरा किया तब मेरी डिजिटल घड़ी में ठीक 7.24 बजे थे जिसे देखते ही मेरे पूरे शरीर के रोंगटे खड़े हो गए और यह मेरे लिए एक अजीब क्षण था! मैं यह देखकर चकित रह गई थी कि ठीक 9 मिनट में पठन संतोषजनक और भावपूर्ण ढंग से पूरा हुआ। न एक मिनट कम और न अधिक! मेरे लिए इतना ही काफी था कि 9 सिक्कों की दक्षिणा की यह परियोजना बिल्कुल पूर्ण रूप से बाबा की प्रेरणा थी! लेकिन बाबा यहीं नहीं रुके। मैं अपने Whatsapp संदेशों को ऐसे ही स्क्रॉल कर रही थी और हजारों संदेशों में से मैंने एक अज्ञात नंबर से एक संदेश खोला (बाद में नंबर सहेजा कर ली)। यहां स्क्रीनशॉट है, कृपया सामग्री पढ़ें।

आमतौर पर ज्ञात और अज्ञात नंबरों से बहुत सारे संदेशों के साथ, एक सामान्य मानव के रूप में जिसकी सीमाएँ होती हैं; मैं यह निर्णय बाबा पर छोड़ती हूं कि वे मुझे कब और कौन सा संदेश पढ़ाएंगे। पारिवारिक, सामाजिक, आध्यात्मिक, पेशेवर और व्यक्तिगत जिम्मेदारियों के विभिन्न क्षेत्रों में रहते हुए, मैं कई बार Whatsapp में संदेशों का जवाब देने में चूक जाती हूं, जो कि छह महीने या उससे अधिक पुराने भी हैं। अब देखिए बाबा की लीला, “लक्ष्मी” नाम को फिर से सन्दर्भ में लाया गया और कहीं न कहीं इस संदेश के माध्यम से बाबा एक बार फिर महापारायण की सफलता की कहानी के साथ इस परियोजना के लिए प्रेरणा दे रहे थे! इतने सारे संदेशों में से मैंने वह संदेश क्यों खोला, जो दिव्याजी ने वास्तव में 15 सितंबर को भेजा था? बाबा ने 20 सितंबर से पहले या 6 महीने के बाद मुझे इसे क्यों नहीं खोलने को प्रेरित किया जैसा कि आमतौर पर होता है? इसका उत्तर सरल है कि ये ‘साईं घटनाएँ थीं न कि संयोग। मैं दिव्याजी से फरवरी 2019 में पुणे में जया वाही दी जान द्वारा आयोजित रेकी हीलिंग वर्कशॉप में मिली थी। हमने अपने नंबरों का आदान-प्रदान किया था और मैंने उनसे पूछा था कि क्या वह महापारायण की सदस्य बनना चाहेंगी। लेकिन बाबा का MP में अपने भक्तों को खींचने का अपना समय रहता है और दिव्याजी के साथ भी ऐसा ही हुआ।

तो रात में, इन सभी साई घटनाओं के बाद मैं बाबा से कहा “इतना आसान नहीं 9 भक्त प्राप्त करना, और न तो यह असंभव है। आपकी इस परियोजना के निष्पादन में आगे बढ़ने से पहले, मैं पहले खुद को आजमाना चाहती हूं और फिर दूसरों को बताना चाहती हूं। जैसे कि जो कोई मुझे जानता हो या जिसे मैं जानती हूं, वह पहले से ही मेरी जानकारी के अनुसार MP का हिस्सा है, फिर भी मैं इसे करने में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयत्न करूंगी क्योंकि आखिरकार मैं आपको 9 सिक्कों की दक्षिणा भी देना चाहती हूं – नव विधा भक्ति का रूप। अगर मैं सफल होती हूं तो मैं पूरे विश्वास के साथ प्रचार कर सकती हूं।”

अगले दिन, 21 सितंबर, मैं लगातार सोच रही थी कि इस दशहरे पर बाबा को भेंट के रूप में अपने नौ सिक्के (MP के 9 भक्त) कैसे एकत्र किए जाएं। फिर बाबा ने अपनी एक और लीला दिखाई। दोपहर में प्रणिता गर्ग नाम की एक भक्त ने फेसबुक मैसेंजर पर मुझसे संपर्क किया जो मैं कभी कबार देखती हूँ। वह मेरी दूर की भतीजी है और मुझे धन्यवाद दे रही थी क्योंकि वह 365 दिनों के साईं (एक अध्याय का दैनिक पाठ) में जुड़ गई थी। इससे पहले उसका संपर्क लवीना अग्रवाल ने मुझे नित्य परायण में जोड़ने के लिए भेजा था। अब यह युवती मुझे ढूंढ़ने और मैसेंजर के माध्यम से संपर्क करने में कामयाब हो गई थी। मैंने उनसे पूछा कि क्या वह MP में हैं और वहां मुझे अपना पहला सिक्का मिला। वह MP में भी शामिल होने के लिए उत्सुक थी और अब मैं अपने अन्य 8 सिक्कों को इकट्ठा करने के लिए और भी उत्सुक थी लेकिन उस दिन ऐसा नहीं कर सकी।

22 वें सितंबर को, 5 बजे शाम को बाबा ने मुझे ब्लॉग के लिए कोई भी संपादन काम करने अनुमति नहीं दी और उसने मुझे मेरे संपर्कों और Whatsapp के माध्यम से स्कूल, कॉलेज, सामाजिक समूहों, और अन्य साथियों से संपर्क करने का कार्य करवाया। मैंने अपने स्कूल के दोस्तों, कॉलेज के दोस्तों और कुछ रिश्तेदारों को फोन किया, जिनसे मुझे लगा कि वे इसमें शामिल होना या फिर से जुड़ना चाहेंगे (क्योंकि कुछ ने कुछ समय के बाद वे एमपी छोड़ दिए थे)। मैं 6 और सिक्के एकत्र करने में सफल रही। फिर मैंने दिव्याजी को बुलाया और उन्हें अपना 8 वां सिक्का बनाया। किसी तरह मैं अपना नौवां सिक्का जमा नहीं कर पाई और मुझे लगा कि बाबा मेरी, मेरे विश्वास और धैर्य की परीक्षा ले रहे हैं। कुछ लोगों से नेटवर्क की समस्या के कारण कनेक्ट नहीं किया, कुछ लगातार व्यस्त थे, कुछ ने नहीं उठाया और कुछ ने कहा कि वे सोचेंगे और बताएंगे और कुछ ने कहा कि वे पहले दो अध्याय पढ़ने की कोशिश करना चाहते हैं और फिर प्रतिबद्ध होना चाहेंगे। जिन लोगों को मैंने सोचा था कि वे जरूर शामिल होंगे, शामिल नहीं हुए और जिन्हें मैंने सोचा कि शायद शामिल न होंगे, वास्तव में शामिल हो गए। शाम के 6.30 बज रहे थे और यह मेरे लिए अपनी दिनचर्या को जारी रखने का समय था। मैंने बाबा से कहा कि मेरे नौवें सिक्का एकत्रित करने में बाबा कि मदद मुझे चाहिए थी। फिर लगभग 10.39 बजे मुझे अपनी स्कूल की सहेली नेहा पोफले का संदेश मिला कि वह शामिल होना चाहती है। मुझे आश्चर्य हुआ क्योंकि मैंने उसी क्षण उस संदेश को पढ़ रही थी और यह भी सोच रही थी कि वह कभी भी शामिल नहीं होगी क्योंकि मैंने उसे अपने एक अन्य स्कूल मित्र का संपर्क नंबर मांगने के लिए फोन किया था। इतना ही नहीं, अगले दिन उसने मुझे दो और संपर्कों के बारे में टेक्स्ट किया जो स्वयं बाबा द्वारा शुरू किए गए वैश्विक महापारायण आध्यात्मिक क्रांतिकारी आंदोलन में शामिल होना चाहते थे। तो मुझे लगा कि जब मैं नवविधा भक्ति के नौ सिक्कों की बाबा को दक्षिणा देना चाहती थी, तो बाबा ने मुझे श्रद्धा और साबुरी (कुल 11 भक्तों) के 2 अतिरिक्त सिक्के दिए। वास्तव में जब हम अपना सर्वश्रेष्ठ देते हैं तो वह हमें हमारी इच्छा से अधिक आशीष देता है!

यह काफी नहीं था, बाबा ने मेरे सपने में अपने सुंदर दर्शन दिए और मुझे आशीर्वाद दिया। 23 सितंबर गुरुवार की सुबह थी, जब मैं अपने ब्रह्म मुहूर्त खिचड़ी परायण के बाद फिर से सो गई; हमेशा की तरह सपने में बाबा से उनके दर्शन के लिए प्रार्थना की। बहुत दिनों के बाद स्वप्न में बाबा के दर्शन हुए। मैंने हनुमानजी, बांसुरी के साथ राधा कृष्ण, साईं बाबा को लाल कफनी में अपने हाथ से आशीर्वाद देते हुए और भगवान दत्तात्रेय और अक्कलकोट स्वामी समर्थ महाराज को श्वेत-श्याम तस्वीरों के रूप में देखा। मैंने कुछ और देवता भी देखे लेकिन मुझे याद नहीं आ रहा है। मुझे वह क्षण भी याद है जब मुझे स्वप्न में बाबा द्वारा दी गई वैश्विक महापारायण व्यवस्था का स्वप्न याद आया और आनंद महसूस किया और कुछ समानता का अनुभव किया जैसे कि यह नौ सिक्कों की इस दक्षिणा के लिए पहला पड़ाव तक पहुँचने के लिए बाबा का एक और आदेश था। मैंने सपने में एक महाराज को भी देखा जिसका नाम ‘उ’ से शुरू हो रहा था और वह महाराज सपने में अपने नाम के बारे में मेरी पुष्टि को स्वीकार कर रहे थे (मुझे लगता है कि उपासनी महाराज हो सकते हैं)। मैं उनसे उस जगह का नाम बताने और मुझे तस्वीरें लेने की अनुमति देने के लिए भी कह रही थी क्योंकि मुझे इस सपने के बारे में एक ब्लॉग पोस्ट लिखने की जरूरत थी। उस सपने में एक और अजीब बात यह थी कि मुझे अच्छी तरह पता था कि यह एक सपना है और यह जल्द ही खत्म होने वाला है। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था, लेकिन कुल मिलाकर मैंने सपने में और सपने के बाद भी बहुत आनंदित, निर्देशित, संरक्षित, प्यार और संरक्षित महसूस किया।

इसके अलावा जब मैं हेतल दी के साथ यह सब साझा कर रही थी कि मैंने अपने नौ सिक्के कैसे एकत्र किए, तो दी ने कहा कि इससे पहले कि मैं अपने स्कूल के दोस्तों के बारे में उल्लेख करती, उनके मन में भी अपने स्कूल के दोस्तों से संपर्क करने का विचार था क्योंकि वह भी 9 सिक्कों की पेशकश करना चाहती थी महापारायण के लिए 9 सदस्यों के रूप में। तो यह कहीं न कहीं साईं के प्रबल दैवीय हस्तक्षेप का संकेत दे रहा था।

इस वर्ष 2021, 15 अक्टूबर को पड़ने वाला दशहरा एक अद्भुत साईं घटना है और हम इसे देखने के लिए भाग्यशाली हैं। तो आगे आएं, अपनी नौ सिक्कों (नौ भक्तों) की दक्षिणा अर्पित करें और बाबा प्रसन्न होंगे कि आपने कुछ आत्माओं को इस प्रबुद्ध पथ पर चलने में मदद की और इस तरह इस वैश्विक सामूहिक प्रार्थना में और अधिक आत्मा ऊर्जा जोड़ दें। आपकी सेवा के लिए बाबा आप पर अवश्य कृपा करेंगे।

बाबा कहते हैं, “जो कोई, कुछ भी (आध्यात्मिक प्रयास) करता है वह निश्चित रूप से उसका फल भोगेगा!” – अध्याय 32 – साईं सच्चरित्र

हमारी ओर से एक छोटा सा प्रयास और प्रतिबद्धता हमारे कर्मों को जलाने में मदद करती है और कई गुना लाभ प्राप्त कराती है। बाबा कभी भी अपने भक्तों की किसी भी छोटी सी सेवा की उपेक्षा नहीं करते हैं, इसलिए निश्चिंत रहें कि हम अपने अच्छे कर्म और धर्म के घड़े को बूंद-बूंद करके भर रहे हैं। बाबा महापारायण की मशाल के माध्यम से अपने बच्चों को आध्यात्मिक पथ पर मार्गदर्शन कर रहे हैं और इसके स्वयंसेवक मशाल वाहक हैं क्योंकि इस कलियुग में इस पथ पर बहुत अंधेरा है। उन्होंने वास्तव में अपने भक्तों के उत्थान के लिए इसकी योजना बनाई है और जल्द ही इस मार्ग के अंधकार को मिटाकर उज्ज्वल बना देंगे। महापारायण के लिए धन्यवाद बाबा, जो इस कलियुग में वरदान के रूप में सामने आ रहे हैं। पढ़ते रहिये, विश्वास करते रहिये, बाबा की सेवा करते रहिये और उनकी लीलाओं को बाँटते रहिये और इस आध्यात्मिक यात्रा में हमारे मार्गदर्शक बाबा निश्चित रूप से आपको भरपूर आशीर्वाद देंगे।

तो प्रिय भक्तों यह सब इस बारे में है कि बाबा ने नौ सिक्कों की इस दक्षिणा के बारे में कैसे प्रेरित किया। यदि आपमें अर्पण करने की वह इच्छा है तो भक्तों को महापारायण में जोड़ने के संबंध में आप चाहे कितना भी संतृप्त महसूस करें, बाबा आपके प्रयास में अवश्य ही आपकी सहायता करेंगे। हर कोई अपनी इच्छा, भक्ति, विश्वास और क्षमता के अनुसार चढ़ा सकता है। कुछ स्वयंसेवकों की एक सक्षम टीम के साथ इसके गठन में मदद करके 9 कक्षाओं या 9 गुरुस्थानों (कक्षा शिक्षक और प्रमुख) की पेशकश भी कर सकते हैं। जब हम दक्षिणा देते हैं तो हम बाबा से कभी सवाल नहीं करते कि वे इसके साथ क्या करेंगे। इसी तरह जब आप सभी भक्तों को रेफर करते हैं तो इसे बाबा के पास छोड़ दें जहां वे उन्हें (कक्षा, घर, उप विश्वविद्यालय) से जोड़ देंगे। आप इस अस्थायी व्हाट्सएप लिंक में शामिल होकर 9 भक्तों की अपनी सूची उनके संपर्क नंबरों के साथ दे सकते हैं (एमपी को समझाने और उनकी भागीदारी के बारे में पुष्टि करने के बाद) और फिर समूह से बाहर निकल सकते हैं। कृपया समूह से बाहर निकलना न भूलें अन्यथा यह भर जाएगा और अन्य भक्त अंदर नहीं आ पाएंगे। आप अन्य भक्तों को 9 सिक्कों की दक्षिणा अर्पित करने के लिए प्रेरित करने के लिए अपनी कक्षा में ही पाठ या संदेश भी भेज सकते हैं। आप हमें 108mahaparayan@gmail.com पर ई-मेल भेज सकते हैं। कृपया दोहराव से बचने के लिए अपनी दक्षिणा प्रदान करने के लिए केवल एक विधि का उपयोग करें और भ्रम से बचकर हमारे स्वयंसेवक के प्रयासों और समय को बचाएं। कृपया कैप्टन, क्लास टीचर, वाइस प्रिंसिपल, प्रिंसिपल के रूप में अपनी सेवा देने के लिए आगे आएं क्योंकि हमें इस कम समय में कई लोगों की मदद की जरूरत है। आपकी दक्षिणा देने के लिए व्हाट्सएप ग्रुप के लिए लिंक (कृपया ग्रुप से बाहर निकलना न भूलें)

  1. https://chat.whatsapp.com/F3gsHqL5PE17hY70x00Tp7
  2. https://chat.whatsapp.com/LhlE60UQpD6CURd3vacMcO

थैंक यू एंड लव यू देवा। जय जय साईराम…!

इस सप्ताह मैंने इस दशहरे के लिए बाबा को 9 सिक्कों की अपनी दक्षिणा अर्पित की, आप कब चढ़ा रहे हैं? 15 अक्टूबर 2021 तक बाबा आपके 9 सिक्कों की दक्षिणा महापारायण की प्रतीक्षा कर रहे हैं …!

© Sai Teri LeelaMember of SaiYugNetwork.com

Share your love
Default image
Hetal Patil Rawat
Articles: 113

4 Comments

Leave a Reply