साईं भक्त प्रियंका: शिरडी साईं बाबा ने उदी के रूप में दर्शन दिए

ओम साई राम

हमने केवल किताबों में पढ़ा है कि बाबा किसी न किसी रूप में घर आते हैं और भक्तों आनंद का अनुभव करते हैं। लेकिन जब चमत्कार व्यक्तिगत रूप से होता है तो हम ऐसे भक्तों द्वारा अनुभव किए गए आनंद को समझते हैं।

यहाँ मेरा अनुभव है।

हमारा परिवार पिछले साल कठिन दौर से गुजर रहा था और मैं बाबा से बहुत निष्ठा से प्रार्थना कर रही थी। मेरे पास एक छोटी सी पूजा की जगह है जो मैंने अपने घर में अपने बेडरूम की साइड टेबल पर बनाई हुई है। जैसे ही मैं जागती हूं, मेरी पहले से आदत है कि मैं बाबा और अन्य भगवानों की सभी छोटी मूर्तियों के दर्शन करती हूँ और उसके बाद अपने दिन के कर्तव्यों को पूरा करती हूँ। पिछले साल के आखिरी दिन यानी 31 दिसंबर को, जब मैं हमेशा की तरह उठी और सभी देवताओं से प्रार्थना करने गई तो मैं आश्चर्य चकित हो गई जब मैंने देखा की मेज़ पर हिंदी में “ओम” का प्रतीक बना हुआ है। मैंने अपनी माँ और दादी को फोन किया और हम सभी बहुत रोमांचित हुए और विश्वास हुआ कि हमारी सारी समस्याएं समाप्त हो रही हैं क्योंकि बाबा स्वयं हमें आशीर्वाद देने के लिए प्रकट हुए हैं। ओम के साथ, एक पर्ची थी जिस पर लिखा था कि उदी हमारी सभी स्वास्थ्य समस्याओं को ठीक कर देगी। बाबा की फोटो पर उधी का एक पैकेट भी था। ठीक 10 दिनों के बाद, एक बार फिर उदी से एक और प्रतीक मिला जहाँ “SAI” लिखा हुआ था और एक बार फिर हम सब घर में बहुत खुश थे।

8 फरवरी की रात को, मेरी दादी ने मेरे कमरे की सफाई की और उसने “ओम” और “साईं” दोनों प्रतीकों को अनजाने मे साफ कर दिया। इससे मैं बहुत उदास हो गई और मैं फूट-फूट कर रोई। मैं अपनी मम्मी और दादी से बहुत परेशान और नाराज थी। मैंने अपनी सभी छोटी मूर्तियों को टेबल से हटा दिया और अपनी माँ से कहा कि मैं मूर्तियों को वापस अपनी मेज पर रख दूँगी, जब बाबा फिर से वापस आएंगे। मेरी माँ के साथ-साथ मेरी दादी को भी बहुत बुरा लगा और वे बहुत उदास थीं और बहुत रोईं। मेरी दादी साईं बाबा मंदिर गईं और उन्होंने जो कुछ भी किया उसके लिए भगवान से माफी मांगी। हम में से कोई भी खुश नहीं थे और आज यानि 11 फरवरी को दोनों प्रतीकों को वापस लिख कर बाबा ने हमें आश्चर्यचकित कर दिया। हमें “ओम” और “साईं” दोन लिखा मिला, मानो जैसे बाबा मूर्तियों को अपनी जगह वापस लाना चाहते थे। कागज पर उधी का एक ढेर भी था जिस पर हमें बाबा का नोट मिला। कागज चिपका हुआ था जबकि घर पर कोई गोंद नहीं था। अब, मेरी माँ, दादी और मैं बहुत रोमांचित और खुश थे। हमने अपने कुछ दोस्तों को फोन किया जो बाबा का आशीर्वाद और उदी लेने के लिए घर आए। हम सभी एक बार फिर से बहुत खुश हैं और हम इस आनंद के हर पल को जी रहे हैं।

हम बहुत धन्य महसूस करते हैं, हम बाबा का धन्यवाद करते हैं कि उनका सारा आशीर्वाद हम पर बरस रहा है। थैंक यू बाबा। आपका बहुत-बहुत धन्यवाद और कृपया इस दुनिया में हर किसी को आशीर्वाद दें ताकि हर जगह केवल शांति, प्रेम और खुशी हो। लव यू बाबा – प्रियंका

बैंगलोर

© Sai Teri LeelaMember of SaiYugNetwork.com

Share your love

Leave a Reply