Shirdi Sai The Saviour

[Shirdi Sai - Saviour of all][bsummary]

Shirdi Sai - The Great Healer

[Shirdi Sai - The Great Healer][bigposts]

Character Sketch Of Devotees

[Character Sketch Of Devotees][twocolumns]

शिरडी में राधाकृष्ण मां की सेवा

Advertisements
Hindi Blog of Sai Sarovar MahaParayan, Annadan Seva, Naam Jaap, Free Wallpaper for Download, E-Books, Books, Sai Baba Shirdi Stories, History | http://hindiblog.saiyugnetwork.com/
पिछला पद:
राधाकृष्ण माई एक दशक* तक शिरडी में रही। रामनवमी समारोहों में सक्रिय भागीदारी से ले कर बाबा जिस रास्ते से जाते थे उसे प्रतिदिन साफ करना और शिरडी में कई सुधारों में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका थी।

राधाकृष्ण माई का स्वरूप और कुटिया

राधाकृष्ण माई हमेशा मोटे वस्त्र से बने कपड़े पहनती थी और हमेशा साफ रखती थी। अधिकांश समय वह बिना कंघी किए अपने बालों को ढीला छोड़ देती थी और शायद ही कभी उन्हें बाँधती थी। उसने अपनी झोपड़ी में बिस्तर के ऊपर एक शुभ्र और सफेद मच्छरदानी लटकायी हुई थी और बिस्तर को एक साफ चादर से ढक दिया करती थी। राधाकृष्ण की मूर्ति कुटिए के अंदर एक लकड़ी के मंदिर में सजी थी। बाबा के दो तस्वीर उस मूर्ति के दोनों तरफ थे। राधाकृष्ण माई बाबा के दोनों तस्वीरों को हमेशा फूलों की माला से सजाया करती थी। तस्वीरों के दोनों सिरे पर कशीदाकारी तकिए रखती थी। बाबा के जो दो तस्वीर थे, उन्मे एक में बाबा पत्थर पर बैठे थे और दूसरे तस्वीर में बाबा फर्श पर बैठे हुए थे। माई के पास बाबा की एक और तस्वीर थी, जिसमें बाबा दीवार पर टिक कर अपना कफनी पकड़े हुए थे। राधाकृष्ण माई की कुटिया में बाबा के तीन ही तस्वीर थे। बैठी मुद्रा में बाबा का तस्वीर दुर्लभ था। इसलिए, शिरडी आने वाले भक्तों ने माई की कुटिया पर जाकर बाबा के तस्वीर को दर्शन करना अपना एक नियम बनाया। बाबा अपने भक्तों से यह भी पूछते थे कि क्या वे “स्कूल” गए थे या नहीं? स्कूल से, उनका मतलब राधाकृष्ण माई की कुटिया से था!

दो किताबें हमेशा माई कि कुटिया में था। एक में मुंबई के निरनाय सागर प्रेस द्वारा प्रकाशित संत तुकाराम के अभंग थे और दूसरे में गीतों की एक मराठी पुस्तक थी जो प्रमुख कवि जयदेव द्वारा रचित था।

राधाकृष्ण माई सिर्फ एक बार खाना बनाती थी, जब वो बाबा के लिए सुबह का नाश्ता बनाया करती थी। उन्हें खाना पकाने में कोई परेशानी नहीं थी क्योंकि बाबा दोपहर के भोजन के लिए प्रसाद के रूप में दोपहर के भोजन में से एक हिस्सा भेजते थे। रात में काकासाहेब दीक्षित, बापूसाहेब बूटी, या अन्य श्रद्धालु अपना भोजन लाते और राधाकृष्ण माई के साथ साझा करते। इस प्रकार उनके पास पूरे दिन एकांत में गाने और भजन करने का अवसर होता था।

शिरडी के लोग दिन भर उनकी मधुर आवाज सुनते थे। वह आधी रात तक एकतारा बजाती रहती थीं। इसके बाद, वह दीक्षित वाड़ा के पीछे कुएँ पर जाती और दो बर्तन भरने के लिए पानी निकालती। उसने इसका इस्तेमाल द्वारकामाई, छावड़ी और लेंडीबाग की ओर जाने वाले रास्ते को साफ करने के लिए किया करती थीं और उस पर पानी छिड़का करती थीं। इस प्रकार, उन्होंने पूरी रात काम किया और थोड़ी देर के लिए भी आराम नहीं की। हालाँकि उनके पास पैसे नहीं थे, लेकिन सुंदर ढंग से द्वारकामाई और छावड़ी को बनाए रखने का श्रेय उन्हें ही जाता है। बाबा ने मस्जिद के जर्जर हालत का कभी परवाह नहीं किया था। जब भक्त उनके पास आए और उन्होंने मस्जिद के मरम्मत करने का इच्छा व्यक्त किया, तो वे उन्हें शनिदेव और हनुमानजी के मंदिरों की ओर संकेत करते और उनकी मरम्मत करवाते, लेकिन मस्जिद को बहाल करने का कोई अनुरोध नहीं मानते। हालाँकि, राधाकृष्ण माई ने 1911 में अन्य भक्तों की मदद से अपने स्वयं के श्रम पर मस्जिद में पत्थरों को जड़ने का श्रमसाध्य कार्य किया। इसके लिए उन्होंने अन्य भक्तों के साथ मिलकर कच्चे माल - रेत, चूना आदि की व्यवस्था की। जब बाबा छावड़ी में सोते थे, तब वे लोग सारा माल सर पर उठा कर लाते और काम पूरा करते थे।

शेज (रात्रि) आरती की शुरुआत राधाकृष्ण माई ने 9 दिसंबर, 1909 से की थी, जब बाबा हर अगले दिन सोने के लिए छावड़ी जाते थे। इसी तरह, उन्होंने सुबह 5 बजे काकड़ (सुबह) आरती शुरू की। शिरडी आने से पहले, मध्यायन (दोपहर) आरती पहले से ही बाबा कि की जा रही थी और तात्यासाहेब नूलकर 1910 तक बाबा की आरती करते थे। उसके बाद, मेघा ने 1912 में अपने निधन तक करते रहे। यह जिम्मेदारी उसके बाद बापूसाहेब जोग द्वारा समर्पित रूप से बाबा के समाधि तक निभाया गया।


आइये अब देखते हैं विस्तार से कि राधाकृष्ण मयी ने कैसे अपने अनोखे तरीकों से बाबा की सेवा की।

राधाकृष्ण मां के शिरडी आने से पहले, बालाजीराव नेवसीकर नाम के एक भक्त ने पूरी तरह से बाबा के सामने आत्मसमर्पण कर दिया था और उन्होंने मस्जिद, छावड़ी की सफाई और लेन्डिबाग जाने वाले मार्ग की देखभाल भी की। बाद में, राधाकृष्ण माई ने जिम्मेदारी संभाली। यही नहीं, उन्होंने विभिन्न त्योहारों को मनाने के लिए कई अनुष्ठान शुरू किए, और शिरडी को सजाने में उनका योगदान सराहनीय रहा। उन्होंने लेंडीबाग जाने वाले मार्ग के दोनों ओर एक बांस की बाड़ लगाई, उस पर रेंगने वाले पौधे लगाए, उन्हें पानी दिया और नियमित रूप से उनकी वृद्धि का ध्यान रखा। इस प्रकार, उन्होंने खुद को शिरडी में विभिन्न कार्यों में लगा लिया और अपना दर्द भूल गई।

राधाकृष्ण माई की शिर्डी एवं अन्य जगह के भक्तों द्वारा सम्मानित एवं श्रद्धा की जाती थी। हर कोई उसके दिशा निर्देशों का पालन करने के लिए उत्सुक थे। रास्तों की सफाई, गंदगी, कंकड़-पत्थर निकालना और जानवरों और बच्चों को रास्ते से हटाना, गड्ढे खोदना, पौधे लगाना, गाय के गोबर से फर्श साफ करना और बिछाना, मिट्टी को भिगोना, लकड़ी काटना, मस्जिद की सफाई करना, रंगीन कागज से फूल बनाना और उनमें से कुंद बनाना, शिरडी में आने वाले जुलूसों के निशानों की सफाई करना, रामनवमी के त्यौहार के दौरान नौ दिनों तक श्री राम के पालने को सजाने, गोकुल अष्टमी के दौरान भगवान कृष्ण के जन्म का जश्न मनाने, आदि की जिम्मेदारियां अन्य भक्तों के मदद से उनके साथ थीं। रामनवमी के दिन, बाबा भक्तों को मुट्ठी भर पंजारी का प्रसाद वितरित करते थे। पंजारी को माई सूखे अदरक पाउडर, सोआ के बीज, खसखस, नारियल, और अजवाईन (कैरम बीज) के साथ बनाया करती थी। इसके लिए वह त्यौहार के कई दिनों पहले सभी सामग्रियों को सूखा भूनना शुरू कर देती थी।

उस समय द्वारकामाई का कोई ठोस प्रांगण नहीं था। माई ने बाँस की लकड़ियों का एक बँटवारा किया। वह इस पर गोबर से लेप करती और साफ रखा। वामनराव पटेल, एक वकील, 1916 में छह महीने के लिए शिरडी में रहे। वे राधाकृष्ण माई की जिम्मेदारियों को साझा करते थे। वे एक सफल वकील थे और राधाकृष्ण माई का मदद करते थे। वे किसी भी कार्य को करने में संकोच नहीं करते थे। उन्होंने सब कुछ बाबा की सेवा के रूप में किया।

अगली पोस्ट में, हम राधाकृष्ण माई की शक्तियों को देख कर जानेंगे कि वे एक सच्ची योगिनी थी और साईं बाबा के प्रमुख भक्त थीं।

* मां विनी चितुलुरी के शोध के अनुसार, राधाकृष्ण माई आठ साल तक शिरडी में रहीं और उन्होंने बाबा के लिए खाना नहीं बनाया, इसके विपरीत बाबा प्रसाद के रूप में उनके भोजन का एक हिस्सा भेजते थे। उपरोक्त कहानी को साईं सरोवर पुस्तक से अनुवादित किया गया है और इसमें निहित जानकारी इंटरनेट पर तथ्यों से भिन्न है और इसकी पुष्टि नहीं की जा सकती है।

विन्नी माँ ने राधाकृष्ण माई के जीवन के बारे में एक बहुत ही दिलचस्प वीडियो साझा किया है, जो नीचे साझा किया गया है। कृपया इस पोस्ट को अपने दोस्तों और परिवार के साथ साझा करें और यूट्यूब चैनल (पोस्ट के अंत में उपलब्ध कराए गए लिंक) को भी लाइक करें



Sai Baba's Devotee Speaks Sai Yug Network


स्रोत: साईं सरोवर से अनुवादित

अगली पोस्ट: राधाकृष्ण माई की योगिक शक्तियाँ


© Sai Teri Leela - Member of SaiYugNetwork.com

No comments:

Post a Comment