Shirdi Sai The Saviour

[Shirdi Sai - Saviour of all][bsummary]

Shirdi Sai - The Great Healer

[Shirdi Sai - The Great Healer][bigposts]

Character Sketch Of Devotees

[Character Sketch Of Devotees][twocolumns]

साईं भक्त प्रवीणा: मेरी प्रार्थनाएं शिरडी बाबा द्वारा सुनी गई

Advertisements
Hindi Blog of Sai Baba Answers | Shirdi Sai Baba Grace Blessings | Shirdi Sai Baba Miracles Leela | Sai Baba's Help | Real Experiences of Shirdi Sai Baba | Sai Baba Quotes | Sai Baba Pictures | http://hindiblog.saiyugnetwork.com/


Listen to Podcast हRead in English

साईं भक्त प्रवीणा कहती हैं: ॐ श्री साईं नाथाय नमः। पिछले कुछ महीनों से मुझे कुछ समस्या थी। जब भी मुझे समस्या हुई मैं बाबा को इसे हल करने के लिए कहती हूं और वह समस्या हल हो जाती है। लेकिन पिछले कुछ महीनों से मेरी समस्या हल नहीं हो रही थी और मैं बहुत परेशान थी। इसके कारण हमारे परिवार के सभी सदस्य तनाव में थे। मैं बाबा के सामने रोती थी और समस्या के समाधान के लिए उनसे विनती करती थी। मैं बहुत रोई और बाबा से विनती की, पर हमारी समस्या हल नहीं हुई। उस समय मैं धैर्य नहीं रख पायी और मुझे लगा कि बाबा ने हमें अकेला छोड़ दिया है। वह हमारी प्रार्थना नहीं सुन रहे हैं। इस कठिन समय में हमें बाबा पर विश्वास करते रहे लेकिन फिर भी हमारी श्रद्धा कम होती जा रही थी ।

एक दिन मैं बाबा की वेबसाइटों को खोज रही थी, मैंने इस वेबसाइट को देखा और वहाँ एक भाग था जहाँ हम अपनी प्रार्थनाएँ शिर्डी भेज सकते हैं। मुझे लगा कि मुझे अपनी समस्या शिरडी भेजनी चाहिए, शायद बाबा सुनेंगे। फिर मैंने बाबा को अपनी प्रार्थनाएँ भेजीं और मेरी प्रार्थनाएँ 30 जुलाई 2009 को पहुँचीं। मैंने अपनी प्रार्थनाएँ 30 जुलाई से दो सप्ताह पहले भेजी थीं। प्रार्थनाएँ भेजने के बाद भी मुझे संदेह था कि बाबा मेरी बात सुनेंगे या नहीं। मैं बाबा पर विश्वास खो रही थी| और धैर्य रखना इतना कठिन था कि मैं हमेशा बाबा के सामने रोती रहती थी कि मुझे कोई संकेत दे ताकि मैं जान सकूं कि वह मेरी बात सुन रहे हैं। लेकिन कोई संकेत नहीं आ रहा था और मुझे इतना बुरा लगा कि बाबा पूरी दुनिया को सुनते हैं लेकिन मेरी बात नहीं सुनते। कुछ बार मैं उनसे नाराज हो गई ।

29 जुलाई को मैंने फिर से इस वेबसाइट को पढ़ा और इस वेबसाइट से श्री साईं सत्चरित्र को डाउनलोड किया क्योंकि मेरे पास घर पर श्री साईं सत्चरित्र नहीं थी । मैंने पृष्ठ को यादृच्छिक तरीके से चुना और मुझे ऐसा लगा कि मुझे पृष्ठ 60 पढ़ना चाहिए और मुझे लगा जैसे बाबा श्री साईं सत्चरित्र के माध्यम से मेरे साथ बात कर रहे थे । मुझे लगा जैसे बाबा मुझे देख रहे हैं, भले ही वह मुझसे दूर हैं। तब मैंने बाबा से उन पर श्रद्धा न रखने के लिए क्षमा मांगी । फिर अगले दिन यानी 30 जुलाई को जब मेरी प्रार्थना शिरडी में पहुंची तो हमें उस व्यक्ति का फोन आया कि हमारी समस्या हल हो गई है। उस समय मैं बाबा के सामने सिर्फ एक शब्द नहीं बोल सकी और सिर्फ रोती रही | मुझे ऐसा महसूस हुआ कि बाबा ने मुझे और मेरे पति को माफ कर दिया है।

तब मुझे बहुत बुरा लग रहा था और मैं खुश नहीं थी जब कि हमारी समस्या भी हल हो गई थी जिसका हम इतने लंबे समय से इंतजार कर रहे थे। मुझे पता नहीं क्यों बुरा लग रहा था, इसलिए मैंने टीवी देखा और समाचार शीर्षक देखने के दौरान मैंने शिरडी साईं बाबा को टीवी में देखा और मैं उन्हें टीवी में देखकर बहुत खुश हुुई। पहले मुझे लगा कि यह शिरडी से कुछ समाचार था पर बाद में मुझे महसूस हुआ कि बाबा ने मुझे टीवी से दर्शन दिए। यह मेरे जीवन का सबसे शानदार पल था जिसका मुझे बाद में एहसास हुआ। बाबा ने मुझे दर्शन दिए जो मैं इन शब्दों में व्यक्त नहीं कर सकती। भले ही बाबा के प्रति मेरी आस्था ऊपर-नीचे हो जाती है लेकिन बाबा मुझे हमेशा अपने भक्त के रूप में देख रहे हैं।

श्री साईं बाबा को कोटि कोटि धन्यवाद।

अब भी मेरे जीवन में कुछ समस्याएं बाकी हैं और मुझे पता है कि बाबा की कृपा से सभी हल हो जायेंगी।

जय साईं राम ।


© Sai Teri Leela - Member of SaiYugNetwork.com

1 comment: