Shirdi Sai The Saviour

[Shirdi Sai - Saviour of all][bsummary]

Shirdi Sai - The Great Healer

[Shirdi Sai - The Great Healer][bigposts]

Character Sketch Of Devotees

[Character Sketch Of Devotees][twocolumns]

साईं भक्त सुधीर: मेरे जीवन में साईं सतचरित्र की घटनाएं

Advertisements
Hindi Blog of Sai Baba Answers | Shirdi Sai Baba Grace Blessings | Shirdi Sai Baba Miracles Leela | Sai Baba's Help | Real Experiences of Shirdi Sai Baba | Sai Baba Quotes | Sai Baba Pictures | http://www.shirdisaibabaexperiences.org
साईं भक्त सुधीर कहते है: नमस्ते हेतलजी, मैं सबसे दयालु और कृपालु सदगुरु श्री साईनाथ के साथ हाल ही में अपने कुछ अनुभवों को साझा करना चाहता हूं| किसी जाति, पंथ, रंग, गरीबी और अमीरी के भेदभाव के बिना श्री साई बाबा सभी को प्यार करते हैं और अपनी कृपा करते हैं । उनके लिए हर एक बराबर है। वह उन सभी पर अपनी कृपा दिखाते हैं, जो भक्ति के साथ अपने हाथ उनके सामने फैलाते हैं और पूरे दिल से प्रार्थना करते हैं।

जब से मैंने श्री साईं सच्चरित्र का एक अध्याय हर रोज पढ़ना शुरू किया है तब से मैं बहुत बदल गया हूं। मैं हमेशा बाबा के बारे में ही सोचता हूँ। जब भी किसी को देखता हूँ, तो उसमे साईं ही दिखाई देते हैं। मैं ऐसा सोचने का एक सचेत प्रयास करता हूं। इस तरह, उन्होंने मुझे प्यार और भक्ति की नई ऊंचाइयों तक पहुंचाया। जब ऐसी भावनाएं किसी के हृदय में विकसित होती हैं, तो सिर्फ प्यार, प्यार और प्यार ही महसूस होता है और परमानन्द का अनुभव होने लगता है ।

अपनी बड़ी बहन की गर्भावस्था के दौरान, मैं बाबा से अपनी बहन की सामान्य प्रसव के लिए बहुत अधिक मदद और आशीर्वाद के लिए प्रार्थना करता था, क्योंकि मेरी माँ भी मेरी बहन की व्यक्तिगत देखभाल करने के लिए इस संसार में नहीं है। मैं दिन-रात बाबा से प्रार्थना करता था कि वे हमारे साथ रहें और ऐसे परीक्षा के क्षणों में हमारी मदद करें। ऐसे अवसरों पर, जब मैं साईं सच्चरित्र से यादृच्छिक रूप से एक अध्याय खोलता था, तो मुझे अध्याय 33 मिलता था, जिसमें निम्नलिखित लीला वर्णित है ।
नानासाहेब चांदोरकर जी की बेटी मैनाताई गर्भवती थी और प्रसव पीड़ा से पीड़ित थीं, तब उन्होंने बाबा को याद किया और बाबा ने उनकी सहायता की। रामगीर बुवा के माध्यम से बाबा उदी नानासाहेब जी के पास भेजते हैं। तांगा और उसका चालक नाना चांदोरकर के घर के पास रामगीर बुवा को उतार देते हैं और गायब हो जाते हैं।
इस तरह बाबा मुझे सुरक्षित प्रसव का आश्वासन देते थे। साथ ही बाबा की उदी सबसे चुनौतीपूर्ण क्षणों के दौरान मेरी बहन के बचाव में आई। मैंने बाबा को एक पत्र लिखा था जिस पर बाबा की उदी प्रगट हो गयी। यह उदी श्रीमती रानीजी गुप्ता मौसी के घर प्रगट हुई जहां बाबा की मजबूत उपस्थिति महसूस की जाती है।

तब प्रसव का दिन आ गया था और कुछ ही क्षणों के भीतर मेरी बहन ने बिना प्रसव पीड़ा के एक प्यारी सी बच्ची को जन्म दिया। उसने सोचा कि यह गर्भावस्ता का सामान्य दर्द है । लेकिन उसके ससुराल वालों ने बाबा की उदी लगा दी थी जो मैंने उन्हें दी थी। बाबा को धन्यवाद। हम उनकी कृपा के लिए उनके ऋणी हैं। मेरी बहन बेहद खुश है।

ऐसे बहुत से उदाहरण हैं जहाँ बाबा मुझे संदेशों के माध्यम से आश्वासन देते थे। एक और उदाहरण इस तरह से है। कार्यालय में रहते हुए, जब मैंने गलती से एक लड़की की तरफ देखा, तो मुझे साईं सच्चरित्र में अध्याय 49 में वर्णित लीला की याद आ गई। अध्याय का वर्णन निम्नलिखित है।
जब नानासाहेब जी एक बार भगत म्हालसापति जी और अन्य लोगों के साथ मस्जिद में बैठे थे, तब बीजापुर के एक सम्भ्रान्त यवन परिवार श्री साईबाबा के दर्शनार्थ आया । कुलवन्तियों की लाजरक्षण भावना देखकर नानासाहेब वहाँ से निकल जाना चाहते थे, परन्तु बाबा ने उन्हे रोक लिया । स्त्रियाँ आगे बढ़ी और उन्होंने बाबा के दर्शन किये । उनमें से एक महिला ने अपने मुँह पर से घूँघट हटाकर बाबा के चरणों में प्रणाम कर फिर घूँघट डाल लिया । नानासाहेब जी जिन्होंने उनका चेहरा देखा था, उसकी सुंदरता पर मोहित हो गए और फिर से उसका चेहरा देखना चाहते थे ।

नाना के मन की व्यथा जानकर उन लोगों के चले जाने के पश्चात् बाबा उनसे कहने लगे कि नाना, क्यों व्यर्थ में मोहित हो रहे हो। इन्द्रयों को अपना कार्य करने दो । हमें उनके कार्य में बाधक न होना चाहिये। भगवान ने इस खूबसूरत दुनिया को बनाया है और यह हमारा कर्तव्य है कि हम इसकी सुंदरता की सराहना करें। यह मन तो क्रमशः ही स्थिर, होता है । चित्त शुद्ध होते ही फिर किसी कष्ट का अनुभव नहीं होता । यदि हमारे मन में कुविचार नहीं है तो हमें किसी से भयभीत होने की आवश्यकता नहीं । नेत्रों को अपना कार्य करने दो । इसके लिये तुम्हें लज्जित तथा विचलित न होना चाहिये ।


और बाद में उस दिन जब मैंने श्री साई सत्चरित्र का एक पृष्ठ को यादृच्छिक रूप से खोला, तो मुझे यही अध्याय मिला। यह एक संयोग नहीं है। ऐसा कई बार साबित हुआ। बाबा श्री साई सच्चरित्र के माध्यम से भक्तों को संदेश देते हैं। मैं अपने साईं से कैसे प्यार करता हूं, मैं शब्दों में वर्णन नहीं कर सकता। उनकी कृपा को याद करके मुझे केवल आंसू आते हैं। और ऐसे सभी आंसू जो खुशी से बाहर आते हैं, उनके चरण कमलों में समर्पित है। मुझे सही मार्ग पर लाने के लिए और मेरे मार्गदर्शक होने के लिए मैं बाबा का बहुत ऋणी हूं।

मैं एक और अनुभव साझा करना चाँऊगा । बाबा एक सच्चे गुरु का अनुसरण करने को बहुत अधिक महत्व देते हैं जो आपका सही मार्गदर्शन करे । बाबा ने मुझे एक ऐसे सिद्ध गुरु से मिलवाया, जिन्हें आत्म - साक्षतकार का अनुभव हुआ है और अन्य भक्तों को भी आत्म - साक्षतकार देने की शक्ति मिली है। यह गुरुजी मुझे बाबा के एक महान भक्त के माध्यम से मिले हैं, जिनका मैं बहुत आभारी हूं। ये सिद्ध गुरु श्री रामानंद महर्षि हैं। बाबा उनके माध्यम से लोगों को आध्यात्मिक उत्थान करते हैं। इच्छुक भक्त अधिक जानकारी के लिए निम्न वेबसाइट के माध्यम से ब्राउज़ कर सकते हैं http://www.ramananandamaharshi.com/ श्री रामानंद महर्षिजी ने कईं किताबें लिखी हैं जैसे की - "शिरडी साईं बाबा की कृपा का रहस्य"।

एक और अनुभव इस तरह से है। मैं एक सॉफ्टवेयर फर्म के लिए काम कर रहा हूं। मंदी के कारण कारोबार में सुस्ती है और अच्छी परियोजनाएं मिलना मुश्किल है। मुझे लगभग 4 महीने तक अपनी कंपनी में योगदान देने का कोई काम नहीं था। मेरा उपयोग मध्यम था। बाबा की दृढ़ता से प्रार्थना करने पर, गुरुवार के एक दिन मुझे एक डिलीवरी मैनेजर ने बुलाया और काम शुरू करने के लिए दिया। और सबसे आश्चर्यजनक बात यह है कि वह इस आध्यात्मिक समूह का एक हिस्सा है और एक धन्य आत्मा है। उन्हें धन्यवाद। बाबा उन्हें और उनके परिवार पर हमेशा अपनी कृपा रखे |

शक्तिपात में भाग लेने के बाद, जिसे गुरु श्री रामानंद महर्षिजी ने दिया था, दो दिनों के बाद उनके बारे में लिखने के लिए मुझमें एक मजबूत भावना पैदा हुई (शक्तिपात का अर्थ है, गुरु द्वारा शिष्य में शक्ति का संचार करना । शक्तिपात से शिष्य में बहुत अधिक ऊर्जा प्रवेश करती है। मंगलवार की सुबह मुझे एक दृष्टि मिली। यह श्री हनुमान जी के बारे में है जिसमें मैं हनुमान दंडकम गा रहा था और भगवान हनुमान मुझे मंदिर में दिखाई दिए और मेरे हाथ पर एक पवित्र गाँठ बांध दी। उनके रूप उनके शरीर पर बहुत सारे बालों के कारण एक पुरातन पुरुष (मानव विकास के इतिहास में प्राचीन व्यक्ति) जैसा दिखता था। जब मैं उठा तो मेरी खुशी कोई सीमा नहीं थी। अपनी कृपा बरसाने के लिए बाबा को धन्यवाद। इस प्रकार मुझे यह लिखने का अवसर मिला।

धन्यवाद, पिसय सुधीर कुमार


© Sai Teri Leela - Member of SaiYugNetwork.com

1 comment: