Shirdi Sai The Saviour

[Shirdi Sai - Saviour of all][bsummary]

Shirdi Sai - The Great Healer

[Shirdi Sai - The Great Healer][bigposts]

Character Sketch Of Devotees

[Character Sketch Of Devotees][twocolumns]

साईं भक्त मंगा: बाबा ने दो बार की माँ के प्राणो की रक्षा

Advertisements
Hindi Blog of Shirdi Sai Baba Miracles Leela Blessings Sai Nav Guruwar Vrat Miralces | http://www.shirdisaibabaexperiences.org
साईं भक्त मंगा कहती हैं: ओम साई राम, प्रिय हेतल, यह शिर्डी साई बाबा के साथ मेरे व्यक्तिगत अनुभवों में से एक है, कृपया धैर्य रखिए क्योंकि यह पोस्ट लंबा हो सकता है।

अप्रैल 17, 1993 की बात है। उस समय मैं अपने घर में साईं बाबा की भक्त थी, बाद में मेरे पिताजी भी हो गए थे। मेरे पिताजी ने हमारे घर में रात 10:00 बजे आरती करना शुरू कर दिया था। उस समय हमारे घर में मैं और मेरे पिताजी शिरडी साईं बाबा के भक्त थे। एक दिन मेरे पिता को हैदराबाद के मसब टैंक में शिरडी साईं बाबा के मंदिर जाने का मौक़ा मिला। उस समय मैं, माँ, बहन पुराने माललीपल्ली, हैदराबाद में घर पर ही थे। मेरे पिताजी मंदिर में साईं आरती में जाते थे और 8:00 बजे या 9:00 बजे तक घर लौट आते थे। एक दिन मेरी माँ उस शाम सिलाई कर रही थी, वह स्वस्थ थी। लगभग 7:00 बजे या जब वह सिलाई कर रही थी, अचानक उन्हें पेट में दर्द हुआ, वह दर्द बर्दाश्त नहीं कर पाई। वह कभी अस्पताल नहीं जाती थी लेकिन उस दिन वह खुद डॉक्टर की सलाह लेने के लिए क्लिनिक पहुंची। डॉक्टर ने उन्हें इंजेक्शन (दर्द निवारक) लेने के लिए कहा और कहा कि वे ठीक हो जाएँगी। रात भर दर्द बेकाबू रहा। वह कई बार बाथरूम गई। रात भर उन्होंने कुछ खाया-पिया भी नहीं। अगले दिन, रविवार को सुबह लगभग 6:00 बजे सुबह मेरे पिता उन्हें एक प्रतिष्ठित अस्पताल में एडमिट करने के लिए ले गए। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया जो की पास ही में था। हम बोर्ड परीक्षा दे रहे थे इसलिए उन्हे जाकर देख नहीं सकते थे और मेरे माता-पिता नहीं चाहते थे कि हमारी पदाई में बाधा आए।

मेरे पिता ने कहा कि वह ठीक है। डॉक्टर उनकी देखभाल कर रहे हैं। दिन बीतते गए लेकिन उनकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ। तीन दिन बीत गए थे, हमारी परीक्षा समाप्त हो गई और हमने सोचा कि माँ को अस्पताल में देखने जाना है। मैं उन्हे एक सूजे हुए पेट के साथ देखकर चौंक गई। वह एक बिस्तर पर लेटी हुई थी।

हम बहनों ने अपने पिता को अस्पताल बदलने के लिए कहा क्योंकि वे बेहतर सेवाएं नहीं दे रहे थे। डॉक्टर राउंड पर आते थे और कुछ इंजेक्शन, दवा आदि देता थे। यह 22 अप्रैल 1993 गुरुवार की बात है, हम घर पर बहनों को इस बारे में कुछ नहीं पता था कि डॉक्टर ने ऑपरेशन के लिए बोल है और हमें कोई सुराग नहीं था कि क्या चल रहा है। मैं और मेरी बहन शिरडी साईं बाबा की फोटो के सामने प्रार्थना कर रहे थे (वह चित्र जहाँ साईं बाबा पत्थर पर बैठे हैं)। मुझे वह फोटो बहुत पसंद है जो उस समय हमारे घर की एकमात्र बड़ी फोटो थी। मुझे और मेरी बहन को सचमुच उस फोटो में उज्ज्वल प्रकाश दिखाई दिया। हालांकि वह फ़ोटो दीवार पर लटकी हुई थी, मैं बिस्तर पर चढ़कर उस प्रकाश को हाथों से पकड़ सकती थी। यह चित्र मेरे दिमाग में ताज़ा है। बाबा ने हम दोनों को संदेश दिया कि वह मेरी माँ की देखभाल कर रहा है। फोटो में बाबा बहुत चमक रहे थे। कुछ मिनटों के लिए हम अवाक थे। हम उत्सुकता से पिताजी का इंतजार कर रहे थे। मेरे पिता माँ के लिए रात का खाना लेने के लिए घर आने वाले थे, और उन्हें भी रात का खाना खाकर फिर से अस्पताल जाना था। हम चिंतित थे कि मेरे पिताजी अब तक क्यों नहीं आए, यह रात में 9:00 से 10:00 बजे के आसपास का समय था। हम उनका इंतजार कर रहे थे।


अब देखिए बाबा का चमत्कार। जैसे ही मेरे पिताजी आए हमने उन्हें वह घटना बताई और उनहोने भी बताया कि उस दिन एक नया डॉक्टर आया था जो काफी अनुभवी था। जब वो चक्कर पर आए, उन्होंने मेरी माँ के पेट को देखा और एक्स-रे के लिए फोन किया। एक्स-रे देखने के तुरंत बाद उन्होंने तुरंत ऑपरेशन के लिए कहा। कुछ ही मिनटों में उन्होंने ऑपरेशन की व्यवस्था की। जिस दिन ऑपरेशन किया गया था वह गुरुवार था। डॉक्टर को पूरा यकीन नहीं था कि उस ऑपरेशन से मेरी माँ की जान बचेगी या नहीं। यदि इससे काम नहीं बना तो उन्होंने सोचा कि माँ को दूसरे ऑपरेशन के लिए जाना पड़ेगा। डाक्टर मेरी माँ की स्थिति के लिए नर्सों से अपडेट की प्रतीक्षा कर रहा थे। डॉक्टर घबरा रहा था कि आपरेशन सफल होगा या नहीं। डॉक्टर इंतजार कर रहे थे कि क्या वह बिना किसी समस्या के उनके पेट से गैस को बाहर निकाल सकती है की नही? बहुत सारी गैस जमा हो गई थी और उनके पेट में छोटी आंत भी मुड़ गई थी। (उनके पेट से निकाले गए हिस्सों को प्रदर्शन के लिए रखा गया था, मैंने उन्हें देखने की हिम्मत नहीं की) मेरी माँ ने उत्सर्जित किया (पेट से गैस निकल गई और ऑपरेशन सफल रहा), डॉक्टर ने यह जानने के बाद कहा "थैंक गॉड"।

हमें यह जानकर बहुत खुशी हुई कि जिस समय उनका ऑपरेशन हुआ उसी समय बाबा ने हमें यह संदेश दिया था कि उन्होंने मेरी माँ के जीवन का ख्याल रखा है। हमें नहीं पता था कि शाम 6:00 बजे से शाम 7:00 बजे के दौरान ऑपरेशन चल रहा था।

बाबा को पता है कि उनके लिए असली सच्चा भक्त कौन है और उन्हें अपनी ओर खींचता है, वे उनसे आकर्षित होते हैं चाहे वे प्रार्थना करें या न करें। मेरी माँ भगवान से प्रार्थना करती है, वह भक्त थी लेकिन उसने कभी भी शिरडी साईं बाबा से प्रार्थना नहीं की हालांकि मैंने और पिताजी ने शिरडी साईं बाबा से प्रार्थना करते थे।

मेरी माँ के जीवन में इस घटना ने उनको शिरडी साईं बाबा के प्रति पूरी तरह से बदल दिया। तब से मेरी माँ ने साईं बाबा से प्रार्थना करना शुरू कर दिया और नियमित रूप से हर गुरुवार को साईं बाबा मंदिर जाती हैं। वह घर पर 3 आरती करती है, दोपहर में बाबा को भोजन कराती हैं। वह बाबा के प्रति अधिक समर्पित हो गई हैं। दो साल से वह गुरुवार को अन्नदान करती हैं (खुद खाना बनाती है)। हमारा परिवार मेरी माँ की जान बचाने के लिए शिर्डी साईं बाबा का ऋणी है।

दूसरा अनुभव


यह दूसरा अनुभव था जब बाबा ने मेरी मां की जान बचाई थी। यह लगभग 10 साल पहले की घटना थी। मेरी माँ कुछ व्रत पूजा करने के लिए अपने शहर गई थी, एक तेलुगु त्योहार "अटला ताड़ी" के अवसर पर। पूजा के अनुष्ठानों के अनुसार सभी महिलाएं झील में दिया जलाती हैं और उन्हें तालाब में छोड़ देती हैं।

उन दिनों लोग मछली (छोटे वाले) खरीदते थे, उसे झील में छोड़ते थे और उन्हें खाना देते थे। यह कुछ शहरों में एक व्यवसाय है। मेरी माँ और अन्य महिलायें उस दिन उपवास कर रही थी और शाम को सभी दीपक जलाकर पूजा करने के लिए एक झील में गए और इसके बाद अपना उपवास तोड़ सकें।

झील के तट पर कुछ सिडिया थी और एक-एक करके वे अपने दीयों को छोड़ रहे थे। मेरी माँ की बारी आइ और वह अंतिम कदम पर पहुंच गई, दिये को झील में छोड़ दिया, वापस आने से पहले वह फिसल गई और पानी के धाराओं ने उन्हें झील में खींच लिया।

वह तैरना नहीं जानती थी। वह डूबने लागि। रात को अंधेरा था। उन्हें बचाने के लिए कोई भी पुरुष आगे नहीं आ रहा था, जब मेरी माँ की बहन ने वहाँ के एक आदमी से मदद मांगी जो अपने काम से लौट रहा था, तो उसने कहा कि उसके पॉकेट में पैसे हैं, इसलिए वह झील में कूदने और उसे बचाने की हिम्मत नहीं कर सका क्योंकि उसका पैसा भींग अजीएगा। मेरी चाची जोर-जोर से मदद के लिए चिल्ला रही थी। कोई भी महिला तैरना नहीं जानती थी। इसी बीच मेरी माँ को झील के एक किनारे से दूसरे किनारे पर पहुँचते देख कर वे सब चौंक गईं। सचमुच में माँ नहीं तैरना नही जानती थी और उनमें से किसी ने भी तैराकी में उनकी मदद नहीं की थी। जो कोई भी यह देख रहा था वह चौंक गया था और वह सोच में डूबा हुआ था कि वह झील के उस पार कैसे आई।

यह सचमुच बाबा थे जिन्होंने मेरी माँ की थोड़े से भी पानी निगले बिना उनकी मदद की, वह उन्हें एक छोर से दूसरे छोर तक ले गए। उन्होंने पानी नहीं पिया। पास में ही बाबा का मंदिर था और बिना किसी संकोच के वह आरती में शामिल हुई और गीले कपड़ों में शर्मिंदा भी नहीं हुई।

धन्यवाद

मंगा


© Sai Teri Leela - Member of SaiYugNetwork.com

No comments:

Post a Comment